जानें फलों में लगे स्टीकर का मतलब…

1

हम सभी फल तो खाते ही हैं| डॉक्टर भी सलाह देते हैं कि हर दिन एक फल खाना स्वास्थ्य के लिए लाभकारी है। साथ ही मौसमी फल भी खाते रहना चाहिए, लेकिन अब समय बहुत बदल गया है। आजकल सालभर ही सारे फल मिलते हैं। पहले मौसम के हिसाब से फल मिलते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं रहा है इसलिए आपको ध्यान रखने की आवश्यकता है। आपने देखा होगा कि आजकल फलों में स्टीकर लगे होते हैं। फलों पर लगे स्टीकर का क्या मतलब होता है। फलों पर लगे स्टीकर उनकी गुणवत्ता को दर्शाते हैं।

बता दें कि फलों में दिए स्टीकर में दाम, एक्सपायरी डेट के अलावा पीएलयू कोड भी होता है। पीएलयू कोड फलों की गुणवत्ता को दर्शाता है, अगर आप इसके बारे में जान जाते हैं तो आपको सही गुणवत्ता वाले फलों का चुनाव करने में आसानी होगी। पीएलयू कोड में एक विशेष अंक से संख्या होती है, जिससे आप जान सकते हैं कि जो फल खरीद रहे हैं, उसे पारम्परिक तरीके से उगाया गया है या फिर उसमें किसी रासायनिक पदार्थ का इस्तेमाल किया गया है| तो चलिए जानते हैं कि फलों पर लगे स्टीकर का क्या मतलब होता है|

– अगर स्टीकर 9 अंक से शुरू होता है और कोड पांच संख्या में है तो वह फल ऑर्गेनिक तरीके से उगाया गया है। मतलब यह फल आपकी सेहत के लिए अच्छा है।

– अगर किसी फल में लगे स्टीकर या लेबल पर दिया कोड 8 अंक से शुरू होता है और यह संख्या पांच अंकों की है तो फल में आनुवांशिक संशोधन किया गया है। इस तरह के फल गैर-ऑर्गेनिक फल होते हैं।

– फलों में अगर सिर्फ चार अंक की संख्या है तो इस तरह के फलों को कीटनाशक और रसायनों द्वारा उगाया गया है।

Share.