भारत के लोगों में कैल्शियम की कमी

0

हमारे खानपान और जीवनशैली से हमारे स्वास्थ्य पर विशेष प्रभाव पड़ता है| ऐसे में अपने खानपान को लेकर हमें बेहद सक्रिय रहने की जरूरत है| भारत में आमतौर पर लोग कैल्शियम की उतनी खुराक नहीं लेते हैं, जितनी शरीर की  हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है| वैश्विक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में वयस्कों की खुराक में कैल्शियम की मात्रा जरूरी मात्रा से सिर्फ आधी होती है|

हड्डियों की मजबूती

शरीर में हड्डियों का मुख्य कॉम्पोनेन्ट कैल्शियम है| स्वस्थ शरीर में इसकी मात्रा 30 से 35 फीसदी होती है, जो हड्डियों को मजबूती प्रदान करता है। कम मात्रा में कैल्शियम की खुराक लेने से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और ऑस्टियोपोरोसिस  नाम की बीमारी का खतरा बना रहता है।

429 mg कैल्शियम लेते हैं भारत के लोग 

एक गैर-सरकारी संस्था इंटरनैशनल ऑस्टियोपोरोसिस फाउंडेशन (IOF) द्वारा जारी रिपोर्ट के मुताबिक, एक स्वस्थ शरीर को रोजाना 800 से 1000 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है जबकि भारत में औसतन लोग महज 429 मिलीग्राम कैल्शियम रोजाना अपने भोजन में लेते हैं|

कम मात्रा में कैल्शियम खाने वाले लोगों में एशिया, अफ्रीका और दक्षिण अमरीका में बताए गए हैं, जहां औसतन खुराक 400 से 700 मिग्रा प्रतिदिन है| इस शोध के सह लेखक और भारत से IOF बोर्ड के सदस्य अंबरीश मित्तल ने कहा, ‘एशिया के कई हिस्सों, खासतौर से दक्षिण पूर्व एशिया में लोग 400-500 मिलीग्राम से भी कम कैल्शियम रोजाना अपनी खुराक में लेते हैं, जो सेहत के लिहाज से ठीक नहीं है|’

Share.