हेल्थ और वेलनेस इंडस्ट्री में बूम

0

आज की भागदौड़ और तनाव भरी ज़िंदगी में लोग अपनी सेहत की तरफ ध्यान देना भूल गए हैं। खान-पान में कमी और शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की जानकारी के अभाव में कई बीमारियां पनप रही हैं। ऐसे में डाइटीशियन और न्यूट्रिशियन के रूप में करियर की संभावनाएं बढ़ती जा रही हैं। पहले डायटीशियन को सिर्फ वजन कम या ज्यादा करने वाले इनसान के तौर पर देखा जाता था, लेकिन अब फूड मैनेजमेंट और न्यूट्रिशन जैसी चीजें भी इसमें शामिल हो गई हैं।

योग्यता और अवसर

इस फील्ड में करियर बनाने के लिए बीएससी होम साइंस, बीएससी न्यूट्रीशन एंड डाइटीशियन, बीएससी फूड साइंस, एमएससी न्यूट्रीशन एंड डाइटीशियन, पीजी डिप्लोमा इन डाइटीशियन और पब्लिक हेल्थ न्यूट्रीशन, न्यूट्रीशन मैनेजमेंट आदि कोर्स करने चाहिए। नॉन साइंस बैकग्राउंड के स्टूडेंट्स के लिए शॉर्ट टर्म डिप्लोमा कोर्स और सर्टिफिकेट कोर्स भी उपलब्ध हैं। इसके बाद केटरिंग डिपार्टमेंट, होटल, फूड मैन्युफैक्चरिंग रिसर्च लैब, ब्यूटी क्लीनिक, फिटनेस सेंटर और गवर्नमेंट हेल्थ डिपार्टमेंट और कंसल्टेंट के रूप में भी कार्य कर सकते हैं।

संस्थान

– नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूट्रिशियन, हैदराबाद, www.ninindia.org

–  यूनिवर्सिटी ऑफ मद्रास, www.unom.ac.in

–  डॉ.एमजीआर मेडिकल यूनिवर्सिटी, चेन्नई, tnmgrmu.ac.in

– सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट, मैसूर, www.cftri.com

Share.