share your views
share your Comments

शुद्धिकरण के नाम पर काट दिए बाल

0

98 views

समाज में कुरीतियों के  नाम पर लोगों को अभी भी कई जगह पर परेशान किया जाता है| पुरानी मान्यता का वास्ता देकर कई ऐसे कार्य कराए जाते हैं जो गैरकानूनी होते हैं| ऐसे ही एक आदिवासी बच्ची से छेड़छाड़ होने पर समाज के लोगों ने शुद्धिकरण के नाम पर उसे ही सजा दे दी, जबकि बच्ची का कोई दोष नहीं था|

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में एक बच्ची के समाज वालों ने शुद्धिकरण के नाम पर बाल काट दिए| बताया जा रहा है कि बाल काटने के बाद सभी आरोपी फरार हो गए| 13 वर्षीय बालिका से अर्जुन यादव नाम के युवक ने छेड़छाड़ की थी| जब बालिका ने इसकी जानकारी अपने परिजनों को दी तब गांव में दूसरे दिन पंचायत बुलाकर यादव पर 05 हजार रुपये का दंड लगाया गया और बच्ची एवं उसके परिवार को समाज से बहिष्कृत कर दिया गया| पंचों ने कहा कि लड़की अशुद्ध हो गई हैं उसकी शुद्धि करानी होगी और समाज को खाना भी खिलाना होगा|

पंचायत का फैसला मानकर परिवार वालों और समाज के कुछ लोगों ने मिलकर बच्ची को नदी में नहलाया और उसके बाल भी काट दिए गए| इसके बाद बच्ची के परिवारवालों ने भोज का आयोजन भी करवाया| मामले की जानकारी जैसे ही पुलिस को लगी, उन्होंने समाज के लोगों के खिलाफ कार्रवाई की| बैगा आदिवासी समाज की तीन महिलाओं समेत 10 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज भी किया गया| फिलहाल सभी आरोपी फरार हैं पुलिस उनकी तलाश कर रही है|

Share.
31