X

भाजपा छोड़ कांग्रेस के हुए पूर्व विधायक

0

1,111 views

एक ओर भाजपा देश के अन्य राज्यों में अपनी पकड़ मजबूत कर रही है, वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश में भाजपा की पकड़ ढीली होती नजर आ रही है| प्रदेश में हुए कोलारस और मुंगावली उपचुनाव हारने के बाद मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के लिए एक और बुरी खबर है|

प्रदेश के बहुचर्चित व्यापम घोटाले के व्हिसल ब्लोअर पूर्व विधायक पारस सकलेचा ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है| पारस सकलेचा भाजपा के और निर्दलीय विधायक रह चुके हैं| वे प्रदेश के रतलाम में पारस दादा नाम से मशहूर हैं|

दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय में पारस सकलेचा ने मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रभारी दीपक बाबरिया, अरुण यादव, सांसद कांतिलाल भूरिया और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा की मौजूदगी में कांग्रेस का दामन थामा| पार्टी नेता दीपक अरुण और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने माला पहनाकर उनका स्वागत किया|

कांग्रेस का हाथ थामने के बाद पारस सकलेचा ने कहा कि भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार व्याप्त है| इस अवसर पर कांग्रेस सांसद कांतिलाल भूरिया ने सकलेचा को बधाई दी| इस मौके पर मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रभारी दीपक बाबरिया ने कहा कि पारस सकलेचा भाजपा की नीतियों के खिलाफ होकर कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं| कयास लगाए जा रहे हैं कि सकलेचा कांग्रेस के टिकट पर रतलाम शहर सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं|

Share.
31