जब एक आम सेल्समैन बना सुपरस्टार

0

बॉलीवुड में ऐसे कई सितारे हैं, जो अपनी मेहनत और काबिलियत के दम पर फिल्म जगत में अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो पाए हैं| बिना किसी बॉलीवुड संपर्क के ये सितारे इंडस्ट्री में एक ख़ास मुकाम हासिल कर लेते हैं| आज हम आपको ऐसे ही एक प्रतिभा के धनी सितारे की संघर्ष की दास्तान बताने जा रहे हैं| आज अरशद वारसी अपना 50वां जन्मदिन मना रहे हैं|

घर-घर जाकर सामान बेचने वाले अरशद बॉलीवुड में छोटा सर्किट के नाम से फेमस हैं| कॉमेडी फिल्मों में अपना लोहा मनवा चुके अरशद ने फिल्म ‘तेरे मेरे सपने’ से वर्ष 1996 में डेब्यू किया था| वर्ष 2003 में रिलीज़ ‘मुन्ना भाई एमबीबीएस’ से उन्हें अलग पहचान मिली| ‘सर्किट’ के किरदार में उन्हें काफी पसंद किया गया|

घर-घर जाकर बेचते थे सामान

अरशद एक मुस्लिम परिवार से नाता रखते हैं| उनका परिवार आर्थिक रूप से सक्षम नहीं था, जिसके कारण वे सिर्फ 17 वर्ष की उम्र में ही घर-घर जाकर सामान बेचने लगे| इसके बाद उन्होंने एक फोटो लैब में काम करना शुरू किया| डांस में उनकी रुचि को देखते हुए उन्हें मुंबई में अकबर सामी डांस क्लब को जॉइन करने का ऑफर आया और उन्होंने इस ग्रुप को जॉइन कर लिया| इसके बाद उन्होंने डांसिंग कोरियोग्राफी में अपना करियर शुरू किया| अरशद, महेश भट्ट की फिल्म ‘ठिकाना’ और ‘काश’ में उनके असिस्टेंट रह चुके हैं| अरशद ‘इंडियन डांस’ प्रतियोगिता भी जीत चुके हैं|

अरशद वारसी ने गोलमाल सीरीज, हलचल, मुन्नाभाई एमबीबीएस, जॉली एलएलबी जैसी हिट फिल्मों में अपनी कॉमेडी से सभी को प्रभावित किया है|

Share.