इस फिल्म से कॉपी किया है यह गाना

0

शोमैन राजकपूर को उनकी शानदार फिल्मों और उन फिल्मों के कर्णप्रिय संगीत की वजह से जाना जाता है| उनकी फिल्मों के गाने आज भी सुनने वालों के कानों में रस सा घोल देते हैं| मुकेश राजकपूर के पसंदीदा गायक और शंकर-जयकिशन पसंदीदा संगीतकार जोड़ी थीं| इन तीनों ने मिलकर कई सुरीले गाने दिए हैं|

आज हम बात करने जा रहे हैं मुकेश द्वारा गाए प्रसिद्ध गाने ‘आवारा हूं’की , जिसे राजकपूर की फिल्म ‘आवारा’ के लिए कम्पोज़ किया गया था| इसे शब्दों में शैलेन्द्र ने पिरोया था, लेकिन यदि सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ख़बरों की माने तो यह गाना चोरी किया गया था|

इस गाने की धुन जिस गाने की कॉपी है, दरअसल वह तुर्की की एक फिल्म में था, जो सन 1946 में रिलीज़ हुई थी जबकि राजकपूर अभिनीत फिल्म ‘आवारा’ 1951 में रिलीज़ की गई थी| इस गाने में इतनी समानता है कि संगीत से लेकर शब्द तक मैच कर जाते हैं| यहां तक की कुछ दृश्य भी समान लगते हैं| जब आप तुर्किश फिल्म के इस गाने को देखेंगे तो एक खास बात और सामने आएगी| एक और प्रसिद्ध गाने “घर आया मेरा परदेसी,प्यास बुझी मेरी अंखियन की” का संगीत भी इसमें सुनने को मिल जाएगा| सबसे कमाल की बात यह है कि यह गाना भी फिल्म ‘आवारा’ में ही इस्तेमाल किया गया था|

हम यहां कुछ भी क्लेम नहीं कर रहे, दर्शकों की अपनी मर्ज़ी है कि वे बताये कि कौन सा गाना उन्हें असली लगता है और कौन सा कॉपी ?

पुराना तुर्किश गीत 

आवारा फिल्म का ‘आवारा हूं’ गीत

Share.