बॉलीवुड के पहले सुपरकूल स्टार शम्मी कपूर  के यादगार किस्से

0

भारतीय सिनेमा ने आज ही के दिन एक ऐसे कलाकार को खोया था, जिन्होंने बॉलीवुड में अभिनेताओं के डांस करने के चलन की शुरुआत की| शमशेरराज कपूर उर्फ शम्मी कपूर बॉलीवुड के पहले सुपरकूल स्टार थे| उनका जन्म 13 अक्टूबर 1931 को हुआ था| उन्होंने आज ही के दिन यानी 14 अगस्त 2011 को इस दुनिया को अलविदा कहा था| अपने दमदार अभिनय से उन्होंने दर्शकों के दिलों पर खास पहचान बना ली थी| आइये मस्तमौला और बॉलीवुड के पहले सुपरकूल डूड अभिनेता शम्मी कपूर के बारे में जानें कुछ रोचक बातें|

शम्मी कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर और मां रामशरणी ने उन्हें बचपन से ही राजकुमारों की तरह पाला| अपने दो बच्चों को खो देने के कारण उनके माता-पिता उनकी हर ख्वाहिश पूरी करते थे| उनको भाई के कारण स्कूल छोड़ना पड़ा था| दरअसल, पृथ्वी थियेटर्स में उन्हें और उनके भाई राज कपूर को शकुंतला नाटक में रोल मिला था| जब रिहर्सल करने के लिए राज को स्कूल से छुट्टी नहीं मिल रही थी तो वे अपनी प्रिसिंपल से लड़कर स्कूल छोड़ आए| उसी स्कूल में शम्मी भी पढ़ते थे तो उन्हें भी स्कूल छोड़ना पड़ा| उन्होंने कॉलेज की पढ़ाई भी छोड़कर थियेटर ज्वाइन कर लिया था|

उन्होंने बतौर मुख्य अभिनेता फ़िल्म ‘जीवन ज्योति’ से बॉलीवुड में कदम रखा| उनका अंदाज़ तब के तमाम अभिनेताओं से अलग था हंसमुख, ज़िंदादिल और मस्ती से भरा|

शम्मी कपूर मुमताज पर हुए थे फ़िदा

शम्मी कपूर मुमताज को शादी के लिए प्रपोज़ कर चुके थे| मुमताज भी उन्हें पसंद करती थी, लेकिन कपूर खानदान नहीं चाहता था कि उनकी बहू फिल्मों में काम करे| शम्मी चाहते थे कि वे अपना फ़िल्मी करियर छोड़कर उनसे शादी कर लें, लेकिन मुमताज़ ने इनकार कर दिया|

फिल्मी स्टाइल में की शादी

1955 में फिल्म ‘कॉफी हाउस’ के सेट पर वे गीता बाली से मिले और उन्हें अपना दिल दे बैठे| एक रात उन्होंने गीता को फोन कर कहा कि उन्हें शादी करनी है| इसके बाद वे गीता को लेने गए और रात में ही मंदिर में पहुंचे, लेकिन वहां उस समय पंडितजी नहीं थे| अगली सुबह 4 बजे जब पंडितजी आए उन्होंने तभी शादी की| मजेदार बात यह थी कि गीता की मांग भरने के लिए शम्मी के पास सिंदूर नहीं था तो ऐसे में गीता ने अपने बैग में से लिपस्टिक निकालकर दी, फिर शम्मी ने उनकी मांग भरी|

1965 में चेचक की वजह से गीता बाली की मौत के बाद शम्मी कपूर ने खुद पर ध्यान देना छोड़ दिया| इसके बाद घरवालों के दबाव और अपने बच्चों के कारण उन्होंने नीला देवी, जो एक राजशाही परिवार से थीं, से शादी की, लेकिन उनके सामने शर्त रखी कि वे मां नहीं बनेंगी|

जानवर, जंगली, प्रोफेसर, दिल दे के देखो, रंगीन रातें, तुमसा नहीं देखा, मुजरिम, उजाला, दिल देके देखो, चाइना टाउन, ब्लफ मास्टर, कश्मीर की कली, राजकुमार, जानवर, तीसरी मंजिल, एन ईवनिंग इन पेरिस, ब्रह्मचारी, तुमसे अच्छा कौन है, प्रिंस, अंदाज़, विधाता जैसी  लगभग 200 फ़िल्मों में काम किया|

Share.