सलमान ने बिगाड़ दी फैंस की ईद

0

‘फ्लाइंग जट’ के निर्देशक रेमो डीसूजा एक बार फिर ‘रेस-3’ में यह भूल गए कि हीरो के उड़ने से फ़िल्में नहीं चलती है| रेस-3 में सलमान खान के नाम पर ईद में लोगों को कुछ भी दिखाया गया| फिल्म में सलमान कई बार उड़ते दिखाई देते हैं और फिल्म की कहानी भी कहां उड़ रही है, इसका अंदाज़ा लगाना मुश्किल है| फिल्म में कहानी सबसे अहम् होती है| रेस में कहानी का कोई अता -पता नहीं है| इस फिल्म में कहानी नहीं है, इसलिए जरूरत से ज्यादा ट्विस्ट दिए गए हैं| सलमान खान के ब्रांड पर ईद में लोगों को कुछ भी बेचने की कोशिश की गई है| अब्बास-मस्तान की ‘रेस’ सीरीज़ को रेमो ने बंद करने की पुरजोर कोशिश की है|

फिल्म में बेरोजगार एक्टर्स का एक समूह है, जो एक्टिंग छोड़ सब करते दिखेंगे| सभी बेकारों ने मिलकर फिल्म को भी बेकार कर दिया है| एक्टिंग के नाम पर ऐसे डायलॉग्स सुनने को  मिलते हैं, जो फिल्म को और बकवास बनाते हैं| सलमान द्वारा लिखा गया, ‘अवर बिज़नेस इज़ अवर बिज़नेस’ वैसे ही सोशल मीडिया पर मीम बनाने के काम आ ही  रहा था , फिल्म के अन्य संवाद भी किसी घटिया पंच से कम नहीं हैं| उसके अलावा यह फिल्म बॉलीवुड में स्टार अभिनेता के नाम पर पैसे की बर्बादी की कहानी भी बयां करती है| सलमान और रेस के नाम पर करोड़ों की गाड़ियां, बंगले और आलीशान लोकेशंस भी फिल्म ‘रेस-3’ को नहीं जिता सकते हैं|

क्लाइमेक्स में विलेन को न मारकर अगली रेस की तैयारी की गई है, जिससे पौने तीन घंटे का यह होपलेस ड्रामा और भी बकवास हो जाता है| बेरोजगारों को काम देने के जोर पर बॉबी देओल को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया गया है| डेज़ी शाह ने भी ऐसे डायलॉग्स बोले हैं, जिन्हें सुनकर आपको लगेगा उगल भी नहीं पा रहे हैं और निगल भी नहीं पा रहे हैं| अनिल कपूर सबसे बेहतर रहे हैं| सलमान खान ने अपने ब्रांड का भरपूर मिस्यूज किया है|

पहले ही दिन लोगों को कहीं न कहीं यह समझ आ गया कि इस ईद सलमान की ईदी नहीं भा रही है| भले ही सलमान और छुट्टियों के नाम पर लोग ‘रेस-3’ देखने चले जाएं, लेकिन बेहतर यही होगा कि अपनी छुट्टियां और ईद का त्यौहार बिना इस बेकार कहानी के मनाएं| इस फिल्म के बारे में हमारी राय तो यही है कि जो भी देखने जाना चाहते हैं, वे अपनी हिम्मत के हिसाब से फिल्म देखने जाएं| यदि किसी को बीच फिल्म में गुस्सा आता है तो उसके लिए भैया हम जिम्मेदार नहीं है|

Share.