रोमांस से भरपूर है ‘अक्टूबर’

0

स्टार कास्ट: वरुण धवन, बनीता संधू, गीतांजलि राव

निर्देशक: शूजित सरकार

रेटिंग: 3.5/5

शूजित सरकार ने अक्टूबर में प्यार और रोमांस को बेहद खूबसूरती से चित्रित किया है| वरुण धवन और बनीता संधू को लेकर बनाई गई इस फिल्म में प्यार एक खामोश चेहरे में छिपे जुनून की तरह दिखाया गया है| ‘ सिर्फ अहसास है ये रूह से महसूस करो, प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो।’ इस गाने को 1970 में जाने-माने गीतकार गुलजार ने भले वहीदा रहमान-राजेश खन्ना की फिल्म ‘खामोशी’ के लिए लिखा हो, मगर इस गीत के बोल शूजित सरकार की ‘अक्टूबर’ पर फिट बैठते हैं| फिल्म के ट्रेलर को अच्छा रेस्पोंसे और अब फिल्म से यही उम्मीद की जा रही है | फिल्म भारत में लगभग 1500 स्क्रीन्स पर रिलीज हुई है। फिल्म 30-40 करोड़ रुपये में बनी है और उम्मीद की जा रही है कि पहले हफ्ते में फिल्म 25 करोड़ का बिजनेस कर लेगी|

फिल्म में मुख्य किरदार दानिश वालिया (वरुण धवन) यानी डैन और श्यूली (बनीता संधू) हैं। डैन और श्यूली एक होटल में ट्रेनी हैं। फिल्म में बनीता को बेस्ट परफ़ॉर्मर दिखाया गया है वहीँ वरुण अपने गुस्से के कारण परेसहं रहते हैं। कभी गेस्ट की बदतमीजी पर उन्हें गुस्सा आता है, तो कभी बार-बार सफाई का काम मिलने पर अपने मैनेजर से लड़ता है। वरुण फिल्म में 20-22 साल के लड़के का किरदार निभा रहे हैं। ऐसे में उनका गर्म मिजाज वरुण पर काफी सूट कर रहा है। डैन और श्यूली की आपस में ज्यादा नहीं बनती। लेकिन श्यूली का एक्सीडेंट डैन की जिंदगी बदल देता है। और फिर शुरू होता है फिल्म का क्लाइमैक्स।

इस फिल्म में बनीता एक नया चेहरा हैं जिन्हें बेहद खूबसूरती और सरलता से दिखाया गया है वहीँ वरुण ने कॉमेडी से हटकर कुछ नया ट्राई किया है जो दर्शकों को आकर्षित करेगा| एक लम्बे वीकेंड के बाद इस फिल्म को दर्शकों से अच्छे रिस्पांस की उम्मीद है|

Share.