ये सेलेब्रिटी गंभीर बीमारी की चपेट में, हॉलीवुड से खुलासा

0

इस साल की शुरुआत में बॉलीवुड की खूबसूरत अदाकारा विद्या बालन(Vidya balan) के बारे में खबर आई थी कि वह ओसीडी से जूझ रही हैं। वहीं, अब इस बीमारी पर एक बार फिर इसलिए चर्चा हो रही है क्योंकि हॉलीवुड ऐक्ट्रेस लिली रेनहार्ट (Lili Reinhart) ने एक टीवी शो के दौरान इस बात को स्वीकार किया कि अपनी रियल लाइफ में वह ओसीडी का शिकार रह चुकी हैं। यह चर्चा इसलिए छिड़ी क्योंकि अपनी फिल्म ‘Hustlers’ में लिली ने एक ऐसी महिला का किरदार निभाया है, जो स्ट्रैस की मरीज है और अपने जब यह स्ट्रैस उस पर हावी होता है तो वह वॉमिटिंग यानी उल्टी होने जैसा फील करती है। इस कैरेक्टर के बारे में बात करते हुए लिली ने कहा कि वह अपनी रियल लाइफ में ओसीडी का शिकार रही हैं।

ओब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर (OCD) एंग्जाइटी से संबंधित एक मानसिक स्थिति है। अगर यह गंभीर अवस्था में पहुंच जाए तो इससे पीड़ित व्यक्ति कई तरह की डिसेबिलिटीज का शिकार हो जाता है। ओसीडी महिला और पुरुष दोनों को समान रूप से अपना शिकार बनाता है। यह उम्र के किसी भी दौर में हो सकता है. सबसे अहम् बात कम हो या ज्यादा यह डिसऑर्डर एक बार हो जाने के बाद लंबे समय तक बना रहता है। हालांकि इसका इलाज बेहद आसान है। आपको बता दे जाने-माने बिजनस मैन और गूगल सीईओ सुंदर पिचाई भी ओसीडी से पीड़ित रह चुके हैं।

जानकारी के अनुसार ओसीडी में रीपिटेड थॉट्स और इमेजेज ये इंट्रूसिव होते हैं। ये बार-बार आते हैं और लगता है कि अंदर से आ रहे हैं। ऑब्सेसिव थॉट्स होते हैं और कंपल्सिव उनका ऐक्ट है और ये इगो डिस्टॉनिक होते हैं। यानी जिस तरह का आपका इगो होता है आपके विचार उसके एकदम विपरीत आते हैं। ओसीडी के मरीजों में सामान्य लक्षण देखे जाते हैं, उनमें बार-बार हाथ धोना, गंदगी को लेकर बहुत अधिक परेशान रहना। बार-बार नोट गिनना, गैस सिलेंडर, घर के लॉक्स और लाइट के स्विच बार-बार चेक करना जैसी चीजें शामिल हैं।

-Mradul tripathi

 

Share.