website counter widget

Sridevi Birthday 2019 Video : हसीन अदाओं के रंग से भरी, चुलबुली अदाओ वाली रूप की रानी श्री देवी

0

हसीन अदाओं के रंग से भरी, चुलबुली अदाओ वाली वो रूप की रानी,सिल्वर स्क्रीन पर ऐसी चांदनी बनकर उतरी, जिसके नूर में पूरा जमाना खो गया। बिजली गिराने वाली वो अदाकारा  जिनकी जवानी का हर कोई दीवाना था| जब परदे पर उतरी तब अपनी एक्टिंग और नशीली आँखों से सबको दीवाना कर दिया|  हिंदी सिनेमा में श्रीदेवी (Sridevi Birthday 2019) को जो स्टारडम हासिल हुआ वो अपने आप में एक  इतिहास है।

Video : खूबसूरत आंखें, शांत चेहरा और दिल खुश कर देने वाली वैजयंती माला की मुस्कान

50 साल के अपने फिल्मी करियर में श्रीदेवी ने तीन सौ से ज्यादा फिल्मों में काम किया और सिनेमा जगत  की  नायाब नगीना बन गईं। उनका आज जन्मदिन (Sridevi Birthday 2019) हैं वे आज इस दुनिया में तो नहीं हैं लेकिन परदे पर निभाए उनके किरदारों का उनके चाहने वालों के जेहन से जुदा होना नामुमकिन है।श्रीदेवी  (Sri Devi)  को हिंदी सिनेमा की  पहली लेडी सुपरस्टार कहा जाता है।  श्रीदेवी (Sri Devi) का जन्म 13 अगस्त 1963 को शिवाकाशी, तमिलनाडु में हुआ था। असल में  उनका नाम श्रीअम्मा यंगेर अय्यपन था क्योंकि उनकी मातृभाषा तमिल थी|

उन्होंने 1967 में थिरुमुघम की फिल्म ‘थुनाईवन’ से एक्टिंग करियर की शुरुआत की थी, जब वे केवल 4 वर्ष की थीं। बॉलीवुड में उन्होंने   1975 में आई हिट फिल्म ‘जूली’  (Julli) में बाल कलाकार के रूप में शुरुआत की थी। उसके बाद  1979 में हिन्दी फिल्मों में मुख्य अभिनेत्री के रूप में वे फिल्म ‘सोलवां सावन’ में नज़र आई ल्र्किन उन्हें अच्छी पहचान फिल्म ‘हिम्मतवाला’ से मिली |श्रीदेवी  जब बॉलीवुड में आई थी  तब उन्हें हिंदी ठीक से बोलना नहीं आती थी  इसलिए उनकी आवाज ज्यादातर नाज द्वारा डब गई थी।

Alia Bhatt Prada Song : आलिया के मूव्स, हो जाओगे दीवाने

इसके अलावा उनकी  फिल्म ‘आखिरी रास्ता’ को रेखा ने डब किया था, लेकिन फिल्म चांदनी में श्रीदेवी ने अपनी आवाज़ दी और फिल्म सुपर हीट रहीं | श्रीदेवी (Sridevi Birthday 2019) ने हर वो चीज हासिल की, जिसके बारे में उन्होंने सोचा था फिर चाहें वो शोहरत हो, पैसा हो जान से ज्यादा प्यार करने वाला पति हो या जान से प्यारी बेटियां।श्रीदेवी की एक जिद ने परदे पर हीरोइन की शक्ल-सूरत और नाजो अंदाज  को पूरी तरह बदल दिया।

इसकी शुरुआत 1986 में   ‘नगीना’ (Nagina) जैसी फिल्म से हुई थी  वह से उन्होंने अपने रूप को निखारना शुरू किया उन्होंने  ‘नगीना’ जैसी फिल्म में कॉन्ट्रैक्ट लेंस भी पहनना कुबूल कर लिया। हिंदी सिनेमा में कॉन्टेक्ट लेंस पहने वाली श्रीदेवी पहली हीरोइन बनी। अपने रूप को निखारते हुए 1987 में आई  ‘मिस्टर  इंडिया’ जैसी फिल्म में झीनी सिफॉन साड़ी पहनकर अपने हुस्न के साथ डांस का भी उन्होंने जलवा बिखेरा |

फिर 90 के दशक तक श्रीदेवी (Sridevi Birthday 2019) की खूबसूरती और कातिल अदाओं के चर्चे इतने होने लगें क़ी हॉलीवुड फिल्मों में उनकी बात होने लगी  श्रीदेवी के लाजवाब अदाओ की बदौलत मिस्टर इंडिया फिल्म विदेशों में  भी पॉपुलर हुई 90 के दशक का आलम यह हो गया था कि हर एक प्रोडूसर डायरेक्टर अपनी आगामी की फिल्म श्रीदेवी (Sri Devi film) को लेने की कल्पना करता था उस समय श्री देवी की इतनी मर्ज़ी चलती थी की उनका मन होता तो ही वे फिल्मों में अभिनय के लिए हां करती वरना मना कर देती |

View this post on Instagram

Wearing my favourite @manishmalhotra05 in Moscow

A post shared by Sridevi Kapoor (@sridevi.kapoor) on

श्री देवी (Sri Devi) को लेकर लोगों की दीवानगी  बढ़ ग ]थी कि  ‘बाजीगर’ फिल्म के निर्माता तो डर ही गए। फिल्म के निर्माता गणेश जैन काजोल और शिल्पा शेट्टी से पहले श्रीदेवी को डबल रोल के लिए साइन कर लिया था, लेकिन बाद में श्रीदेवी को फिल्म से हटा दिया गया। दरअसल, कहानी में हीरो शाहरुख खान के हाथों हेरोइन का मर्डर होता है। निर्माता गणेश जैन इस बात से डर गए कि लोग फिल्म में श्रीदेवी का मर्डर देखना पसंद नहीं करेंगे।

Jaako Rakhe Song : बाटला हाउस का नया गाना, देखें वीडियो

श्री देवी के परिवार का नाता फिल्मीं दुनिया से कही से कहीं तक नहीं था श्री देवी की उम्र 4 साल की थी , अपने पिता के साथ श्री देवी (Sridevi Birthday 2019) एक राजनीतिक सभा में गईं थी।  इसी सभा में 4 साल की श्रीदेवी को कन्नड़ के मशहूर कवि कवियारासर ने देखा और उनके पिता से श्रीदेवी को फिल्मों में भेजने की बात कही। उनके प्रेम प्रसंग की यदि बात की जाए तो कहा जाता है की उन्होंने संजय दत्त (Sanjay Dutt) से गुपचुप शादी कर ली थी लेकिन इस बात का खुलासा आधिकारिक तौर पर नहीं हुआ फिर आए उनकी लाइफ में बोनी कपूर , बोनी कपूर मिस्टर इंडिया की स्क्रिप्ट लेकर श्रीदेवी के पास गए थे।

ये बात 1984 के आखिरी महीनों की है। श्री देवी (Boney Kapoor) को फिल्म की कहानी तो पसंद आई।  बोनी कपूर (Boney Kapoor) श्रीदेवी को देखते ही दिल दे बैठे। ये बात बोनी कपूर ने श्री देवी (Sri Devi) को बरसों बाद बताई, जब दोनों के बीच दोस्ती का सिलसिला शुरु हुआ लेकिन बोनी कपूर (Boney Kapoor) कई सालों तक खामोश इसलिए रहें क्योंकि उनकी शादी मोना शौरी कपूर से हो चुकीं थी | एक बार की बात है श्री देवी  (Sri Devi)   की मां  की हालत अचानक ख़राब हो गई  डॉक्टरों ने उन्हें अमेरिका ले जाने की सलाह दी।

बोनी कपूर (Boney Kapoor) ने न सिर्फ श्री देवी  (Sri Devi)   को शूटिंग से सिर्फ मोहलत दी, बल्कि अमेरिका में इलाज के दौरान खुद भी  उनके साथ रहेंऔर फिर क्या था  2 जून 1996 श्रीदेवी ने बोनी कपूर संग शादी के सात फेरे ले लिए और उसके बाद पूरे 16 साल बाद फिल्म इंग्लिश-विंग्लिश के साथ श्रीदेवी एक बार फिर सिल्वर स्क्रीन पर थीं। इस फिल्म में बॉलीवुड की मिस हवाहवाई, परदे पर इंग्लिश सिखती नज़र आई। एक बार फिर वही पुरानी श्री देवी  (Sri Devi) दर्शकों के सामने थी,साल 2017 में आई फिल्म ‘मॉम’ श्रीदेवी की आखिरी फिल्म साबित हुई। मॉम फिल्म करने के बाद श्रीदेवी को इंडस्ट्री में 50 साल पुरे हो गए लेकिन और लोगों को उनकी दूसरी पारी का इंतज़ार था  लेकिन अचानक आई उनकी मौत की खबर ने सबको सदमे में डाल दिया। बता दें जब बोने और श्रीदेवी शादी में गए और शादी खत्म होने के बाद  बोनी अपनी बेटी खुशी को साथ लेकर मुंबई लौट आए वहीं श्री देवी  (Sri Devi) ने वहां रूकने का फैसला किया और जब बोनी दुबारा दुबई पहुंचे तो जैसे श्रीदेवी अपने आखिरी वक्त में उनके आने का ही इंतजार कर रही थीं।लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था । अपने कमरे के बाथ रूम श्री देवी  (Sri Devi) गयी  लेकिन बाहर लौटी उनकी मौत की खबर। अपने चाहने वालों और फेन्स  को तनहा छोड़ श्री देवी  (Sri Devi) अपने आखिरी पर निकल पढ़ी और अब श्रीदेवी की यादो के अलावा कुछ नहीं बचा आज भी बॉलीवुड की हवाहवाई और छड्डणी के नाम से उन्हें याद किया जाता है |

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.