निर्भया के दोषियों पर फूटा मल्लिका शेरावत का गुस्‍सा, कह डाली ये बड़ी बात

0

न‍िर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gang Rape and Murder) के दोषियों की फांसी में लगातार देरी हो रही है। पहले चारों आरोप‍ियों को 22 जनवरी को फांसी (Malika Sherawat Speaks On Nirbhaya) दी जानी थी लेकिन एक आरोपी की दया याचिका पर फैसला 17 जनवरी को आया जिसके बाद अब 22 जनवरी को फांसी संभव नहीं है। अब 01 फरवरी को फांसी देना तय हुआ है। फांसी देने में हो रही देरी पर बॉलीवुड (Bollywood) अदाकारा मल्लिका शेरावत (Actress Mallika Sherawat) का दर्द झलका है । मल्लिका शेरावत  (Actress Mallika Sherawat) ने इस देरी पर सवाल उठाते हुए कहा फांसी में देरी होना बहुत निराशाजनक है। सोचिए देश की महिलाओं को कैसा लग रहा होगा और निर्भया के मां बाप पर क्या बीत रही होगी। मल्लिका (Malika Sherawat Speaks On Nirbhaya) ने कहा देश के अलग-अलग हिस्सों में रोज बलात्कार और हत्या हो रही हैं। महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ रहा है। अगर फांसी में देरी होती है तो आरोपियों के हौसले बुलंद होंगे।

Nirbhaya Case: पवन जल्लाद ने कहा निर्भया के दोषियों को चौराहे पर होनी चाहिए फांसी

आपको बता दें कि मल्लिका शेरावत (Malika Sherawat Speaks On Nirbhaya) दुष्कर्म और बाल वेश्यावृत्ति पीड़ितों के पुनर्वास में सक्रिय हैं। वह लंबे समय से फ़िल्मी पर्दे से दूर हैं। अंतिम बार वह 2015 में आई फ‍िल्‍म डर्टी पॉलिटिक्‍स (Film Dirty Politics) में नजर आई थीं जिसमें उन्‍होंने अनोखी देवी नाम की राजस्‍थानी महिला का किरदार निभाया था। यह फ‍िल्‍म सत्‍य घटना पर आधारित थी। आपको बता दें की मल्लिका इस मामले से पहले भी कई सामाजिक मसलों पर अपनी राय दे चुकी हैं।

Nirbhaya Case: दोषी विनय शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की क्यूरेटिव पिटीशन

आपको बता दें की इससे पहले निर्भया की मां आशा देवी (Nirbhaya’s mother Aasha Devi) ने नए डेथ वारंट (Nirbhaya convicts death warrant) पर गुस्सा जाहिर किया। (Malika Sherawat Speaks On Nirbhaya) उन्होंने कहा कि जो मुजरिम चाहते थे वही हो रहा है। तारीख पे तारीख, तारीख पे तारीख… उन्होंने कहा कि हमारा सिस्टम ऐसा है कि जहां अपराधियों की सुनी जाती है। आशा देवी (Nirbhaya’s mother Aasha Devi) ने आगे कहा, तो अब मैं जरूर कहना चाहूंगी कि ये अपने फायदे के लिए दोषियों की फांसी को रोके हैं। हमें इस बीच में मोहरा बनाया, इन दोनों के बीच में मैं फंसी हूं। तो मैं कहना चाहती हूं खासकर प्रधानमंत्री जी से कि आपने 2014 में बोला था, ‘बहुत हुआ नारी पर वार, अबकी बार मोदी सरकार (Modi Government)’।

Nirbhaya Convicts Death Warrant Petition : निर्भया को दोषियों को फांसी नहीं!

-Mradul tripathi

 

Share.