website counter widget

Birthday Special : एक नक्सली जो बन गया ‘डिस्को डांसर’

0

बॉलीवुड(Bollywood) में ‘डिस्को डांसर’ बन अपनी एक अलग छाप छोड़ने वाले मिथुन चक्रवर्ती (Mithun Chakraborty) का आज जन्मदिन है। उन्होंने अपने फिल्मी करियर में 350 से ज्यादा फिल्मे की। वे हिंदी, बंगाली, उड़ीसा, तेलुगु, पंजाबी और भोजपुरी भाषा की फिल्मों में भी नज़र आ चुके हैं। 80 के दशक में मिथुन चक्रवर्ती उन निर्माताओं की पहली पसंद बन गये थे जो कम बजट की पारिवारिक फिल्म बनाते थे, लेकिन धीरे-धीरे उनकी ऐसी डिमांड बढ़ी की वे बड़े परदे पर छा गए। आज कई लोग उनकी जैसे डांस करने की कोशिश करते हैं। इतना ही नहीं कोई दूसरा कुछ अच्छा कर जाए तो दादा की ही तरह उसे ग्रैंड सैल्यूट भी देते हैं।

Jugraafiya SONG : प्यार के गणित में उलझा गणितज्ञ

नक्सली से डिस्को डांसर बनने की

आपको जानकर हैरानी होनी की मिथुन दा पहले नक्सली थे। उनका जन्म कोलकाता में 16 जून 1950 को हुआ था। जैसे एक डाकू वाल्मीकि बन गया था वैसे ही एक नक्सली यानी मिथुन चक्रवर्ती बड़े अभिनेता बन गए। फिल्म इंडस्ट्री में आने से पहले वे एक नक्सलवादी थे, लेकिन अपने भाई की मौत के बाद हिंसा की राह छोड़ नया रास्ता चुना। मिथुन दा ने 1967 में ‘वेस्ट बंगाल स्टेट रेसलिंग चैंपियनशिप’ भी जीती। कोलकाता से उभरे इस सुपरस्टार ने 1976 से फिल्मों में आना शुरू किया। उन्होंने एक के बाद एक कई हिट फ़िल्में दी। मिथुन दा को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से भी नवाजा गया।

दिलों के भी शहंशाह निकले अमिताभ बच्चन

मिथुन चक्रवर्ती की शादी योगिता बाली से हुई थी। उनके 4 बच्चें है, जिनमें तीन बेटे महाक्षय चक्रवर्ती, उश्मेय चक्रवर्ती, नमाशी चक्रवर्ती, और एक बेटी दिशानी चक्रवर्ती है। वे फिल्मों के बाद डांस रिएलिटी शो ‘डांस इंडिया डांस’ और ‘डांस बांग्ला डांस’ में भी नजर आ चुके हैं। फिल्मों के अलावा मिथुन चक्रवर्ती ने गायक, निर्माता, लेखक सामाजिक कार्यकर्ता और बिजनेसमैन के तौर पर भी अपनी पहचान बनाई है। 7 फरवरी 2014 को उन्हें तृणमूल कांग्रेस की ओर से राज्यसभा सांसद भी बनाया गया था।

मिथुन दा का सफल फिल्मी करियर उनको प्राप्त अवार्ड्स और पुरस्कारों से साफ झलकता है। मिथुन अब तक दो बार फिल्म फेयर पुरस्कार और तीन बार राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित हो चुके हैं। मिथुन चक्रवती मोनार्क ग्रुप के मालिक भी हैं जो हॉस्पिटेलिटी सेक्टर में कार्यरत है। अभी वे बंगाल में फुटबॉल को बढ़ावा देनें में लगे हुए है। मिथुन दा के जीवन पर आधारित एक कॉमिक बुक ‘जिमी झिंगचक’ लॉन्च की गई। उम्र के इस पड़ाव में भी वे बच्चों के साथ बच्चे और बड़ों के साथ बड़े बन जाते हैं। वे आज भी डांसर बन जाते हैं, बच्चों के साथ मसखरी करते हैं। ऐसे महानायक को उनके जन्मदिन के मौके पर ग्रैंड सैल्यूट।

Jugraafiya Song Alert : ‘सुपर 30’ का पहला गाना…

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.