दादा साहेब फाल्के पुरस्कार मिलने के बाद महानायक ने कहा-अभी काम बाकी है

0

नई दिल्ली:  बच्चन (Amitabh Bachachan Honored) हिंदी सिनेमा जगत के महानायक अमिताभ बच्चन को रविवार को फिल्म जगत के सबसे बड़े पुरस्कार दादा साहब फाल्के पुरस्कार (Dadasaheb Phalke Award) से सम्मानित किया गया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) ने राष्ट्रपति भवन में आयोजित कार्यक्रम में उन्हें यह सम्मान दिया। अगर कहा जाए तो अमिताभ बच्चन को उनको चाहने वालों ने महानायक का टाइटल पहले ही दे दिया है और अभिनय जगत में उन्हें सर्वश्रेष्ठ माना जाता है, लेकिन अब इस पुरस्कार के मिलने से वह आधिकारिक तौर पर सर्वश्रेष्ठ हो गए हैं।

Amitabh Bachchan Best Dialogues : अमिताभ के TOP 20 डायलॉग्स जो आज भी हैं लोगों की जुबां पर

पुरस्कार (Amitabh Bachachan Honored) मिलने के बाद अमिताभ बच्चन ने कहा कि दादा साहब फाल्के पुरस्कार को देने की शुरुआत करीब 50 साल पहले हुई और मुझे इंडस्ट्री में काम करते हुए भी करीब 50 साल हो गए हैं। उन्होंने कहा, ‘जब इस पुरस्कार की घोषणा हुई तो मेरे मन में एक संदेह उठा कि क्या कहीं ये संकेत है मेरे लिए कि भाई साहब आपने बहुत काम कर लिया है, अब घर बैठ के आराम कीजिए। क्योंकि अभी भी थोड़ा काम बाकी है, जिसे मुझे पूरा करना है और आगे भी कुछ ऐसी संभावनाएं बन रही हैं जहां मुझे काम करने का अवसर मिलेगा, यदि इसकी पुष्टि हो जाए तो बड़ी कृपा होगी।’
एक्स- अमिताभ बच्चन

अमिताभ बच्चन की तबीयत बिगड़ी राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह में नहीं होंगे शामिल

इस दौरान बैठे सभी लोग हंस पड़े और तालियों की गड़गड़ाट से सभागार गूंज उठा। आपको बता दें कि अस्वस्थ होने के कारण अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachachan Honored) सोमवार को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में शामिल नहीं हो पाए थे। दादासाहेब फाल्के पुरस्कार के अलावा अमिताभ बच्चन ने अपने करियर में अनेक पुरस्कार जीते हैं, जिनमें तीन राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार और बारह फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार सम्मिलित हैं। उनके नाम सर्वाधिक सर्वश्रेष्ठ अभिनेता फ़िल्मफेयर अवार्ड का रिकार्ड है। अभिनय के अलावा बच्चन ने पार्श्वगायक, फ़िल्म निर्माता, टीवी प्रस्तोता और भारतीय संसद के एक निर्वाचित सदस्य के रूप में1984 से 1987 तक भूमिका निभाई हैं। लोकप्रिय टी.वी. शो “कौन बनेगा करोड़पति” में होस्ट की भूमिका बखूबी निभाते हैं। इस शो में उनके द्वारा किया गया ‘देवियो और सज्जनो’ सम्बोधन बहुत ज्यादा लोकप्रिय है।

Amitabh Bachachan Honored With Dada Saheb Phalke Awardअमिताभ बच्चन (Amitabh Bachachan Honored) को उनकी दमदार आवाज के लिए पहचाना जाता है, लेकिन ऑल इंडिया रेडियो ने उनकी आवाज को रिजेक्ट कर दिया था. यही नहीं, उन्होंने मृणाल सेन की ‘भुवन शोम (1969)’ और सत्यजीत रे की ‘शतरंज के खिलाड़ी (1977)’ में कहानी नैरेट की थी।
अमिताभ बच्चन अभिनय के साथ-साथ सामजिक कार्यो में भी अपने योगदान के लिए जाने आते हैं। अभी हाल ही में बिहार में बाढ़ पीड़ितों के लिए अमिताभ बच्चन ने 51 लाख रुपये राहत राशि दी थी। इसके पूर्व भी असम और महाराष्ट्र बाढ़ पीड़ितों के लिए उन्होंने 51-51 लाख की राहत राशि उन्होंने दी थी। इसके अलावा अमिताभ बच्चन पोलियो उन्मूलन अभियान और तम्बाकू निषेध परियोजना पर भी काम कर चुके हैं । अमिताभ बच्चन को अप्रैल 2005 में एचआईवी/एड्स और पोलियो उन्मूलन अभियान के लिए यूनिसेफ के सद्भावना राजदूत नियुक्त किया गया था।

अमिताभ बच्चन के पास हैं 2800 करोड़ रुपए

-Mradul tripathi

Share.