‘मणिकर्णिका’ टीज़र में अमिताभ कर बैठे बड़ी गलती

0

कंगना रनौत स्टारर फिल्म ‘मणिकर्णिका’ का टीज़र मंगलवार को लॉन्च किया गया| इस टीज़र को काफी ज्यादा पसंद किया जा रहा है| टीज़र रिलीज़ होने के महज 24 घंटे के अंदर ही इसे 1 करोड़ से अधिक बार देखा जा चुका है| इस टीज़र की शुरुआत अमिताभ की आवाज के साथ होती है और अंत भी उन्हीं की आवाज के साथ| टीज़र में वे सुभद्रा कुमारी चौहान द्वारा रचित वीर रस की कविता बोल रहे हैं, जो रानी लक्ष्मीबाई की वीरता पर आधारित है|

अमिताभ बच्चन के पिता हरिवंशराय बच्चन हिंदी जगत के प्रख्यात कवि रहे हैं| बिग बी ने कई मौकों पर उनकी कविताओं का मंच पर पाठ किया है| टीज़र में उन्होंने कविता का उच्चारण गलत किया है और अब उन पर सवाल उठ रहे हैं कि साहित्य जगह से ताल्लुक रखने के बावजूद वे इस कविता की पंक्तियों को गलत क्यों पढ़ रहे हैं?

सुभद्राकुमारी चौहान की कविता का अंश..

“सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,

बूढ़े भारत में भी आई फिर से नई जवानी थी,

गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,

दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी|

चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,

बुंदेले हरबोलों के मुंह हमने सुनी कहानी थी,

खूब लड़ी मर्दानी वह तो  झांसी वाली रानी थी”

 वहीं, अमिताभ बच्चन की आवाज में सुनाई देने वाली कविता की पंक्तियां कुछ इस प्रकार हैं|

”खूब लड़ी मर्दानी थी वो

झांसी वाली रानी थी वो”

देखें फिल्म का टीज़र

‘मणिकर्णिका: द क्‍वीन ऑफ झांसी’ की कहानी भारत की आजादी की लड़ाई की कहानी है, जो 1857 में लड़ी गई थी| बड़े पर्दे पर रानी लक्ष्मीबाई का दमदार किरदार कंगना रनौत निभा रही हैं| फिल्म ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी’ 25 जनवरी को सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी|

‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी‘ का टीज़र जारी

Share.