X

76 साल की उम्र में हुआ निधन

0

475 views

“इंसान को हमेशा सितारों की तरफ देखना चाहिए न कि अपने पैरों की ओर। सितारे आपको आगे बढ़ने की शक्ति देते हैं।”  ऐसे महान विचार रखने वाले, ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्यों को सुलझाने वाले और आज के युवा वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणास्रोत मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का निधन हो गया है| वे 76 वर्ष के थे| यूके की मीडिया ने हॉकिंग परिवार के हवाले से यह जानकारी दी| उनकी मृत्यु कैम्ब्रिज में उनके घर पर ही हुई है। 

हॉकिंग के पुत्र लकी, रॉबर्ट और टिम ने कहा कि हमें अत्यंत दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि हमारे प्यारे पिता अब इस दुनिया में नहीं रहे। वे एक महान वैज्ञानिक तो थे ही एक महान इंसान भी थे, जिसने विज्ञान की दुनिया में इतना काम किया है, जिसे दुनिया सदियों तक याद रखेगी। उनकी हिम्मत और खोज से पूरी दुनिया प्रभावित रही है।

बीमारी को बनाया अपनी ताकत

स्टीफन हॉकिंग का जन्म 8 जनवरी 1942 को हुआ था। उनके माता-पिता फ्रेंक और इसाबेल हॉकिंग थे। स्टीफन हॉकिंग ने हाल ही में बिगबैंग के पहले के संसार के बारे में कुछ ऐसा बताया है, जिसे जानकर पूरी दुनिया अचंभे में है।

अपनी सफलता का राज बताते हुए  मशहूर वैज्ञानिक हॉकिंग ने कहा था कि उनकी बीमारी ने उन्हें वैज्ञानिक बनाने में सबसे बड़ी भूमिका अदा की है। बीमारी से पहले वे अपनी पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान नहीं देते थे, लेकिन बीमारी के दौरान उन्हें लगने लगा कि वे लंबे समय तक जिंदा नहीं रहेंगे तो उन्होंने अपना सारा ध्यान रिसर्च पर लगा दिया।

मौत से पहले बहुत काम करने हैं

हॉकिंग मौत से नहीं डरते थे| उन्होंने एक बार कहा था कि पिछले 49 सालों से मैं मरने का इंतजार कर रहा हूं।  मैं यह भी कहना चाहता हूं कि मुझे मरने की कोई जल्दी नहीं है। मेरा जन्म बहुत सारे काम करने के लिए हुआ है और जब तक मैं सारे काम नहीं कर लूंगा, मैं इस दुनिया को छोड़कर नहीं जाऊंगा।

Share.
31