विदेश में पढ़ने की है चाहत तो..

0

विदेश में जाकर पढ़ाई करने का आजकल ट्रेंड चल गया है| हर तीसरा बच्चा विदेश में पढ़ने की चाहत रखता है| विदेश में पढ़ने से लेकर वहां की फीस और दाखिले को लेकर छात्र और उनके परिवार वाले हमेशा उलझे रहते हैं| आज हम आपकी उलझन को कम करने के लिए कुछ टिप्स लेकर आए हैं, जो आपकी मदद करेंगे|

यदि आप अपने बच्चे को विदेश भेजना चाहते हैं तो इसके लिए तैयारियां कक्षा 9वीं से ही शुरू कर लें| इससे आपको बजट बनाने का पर्याप्त समय मिल जाएगा और बच्चों को भी तभी से तैयार करना शुरू कर दें|

काउंसलिंग या कॉलेज के चुनाव में होने वाली छोटी-छोटी गलतियों से बचने के लिए किसी जानकार की सलाह जरूर लें| सोशल मीडिया पर आपको ऐसे कई लोग या छात्र मिल जाएंगे, जो इस विषय में आपकी सहायता कर सकते हैं|

सबसे पहले यह तय कर लें कि बच्चे की रुचि किस विषय में है, फिर कौन सी यूनिवर्सिटी में कौन सा कोर्स पढ़ाया जा रहा है, इसकी जानकारी भी हासिल कर लें| आजकल इंटरनेट पर सारी जानकारियां आसानी से मिल जाती हैं इसलिए कोशिश करें कि इस संबंध में पूरी जानकारी पहले ही इकट्ठा कर लें।

आपको किस देश में अपने बच्चों को पढ़ाना हैं, वहां के नियम क्या हैं, इन सब के बारे में पहले ही जानकारी हासिल कर लें और अपने बच्चों को भी बता दें ताकि बाद में कोई परेशानी न हो|

विदेश में बच्चों को पढ़ाना काफी महंगा होता है, ऐसे में तरह-तरह के स्कॉलरशिप प्रोग्राम्स आपकी मदद करेंगे| साथ ही बैंक्स आपको एजुकेशनल और पर्सनल लोन्स की भी सुविधा देते हैं|

Share.