Career In Aeronautical Engineering : एयरोनॉटिक्स इंजीनियरिंग के इच्छुकों के लिए काफी फायदेमंद होगा यह लेख

0

वैमानिकी (Aeronautics) इंजीनियरिंग ऐसा कोर्स है, जिसके बारे में शायद बहुत ही कम लोगों को पता होगा। एयरोनॉटिक्स के अंतर्गत आप विभिन्न कोर्सों में एडमिशन ले सकते हैं। एयरोनॉटिक्स हवाई जहाज और स्पेस से जुड़े सभी क्षेत्रों में डिग्री कोर्स भी उपलब्ध करवाता है। आप अपनी इच्छा और योग्यता के अनुसार किसी भी कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं। अगर आप एयरोनॉटिक्स (Career In Aeronautical Engineering) से जुड़े कोर्स टाइप, डिग्री कोर्स, विषय, स्कोप, अवसर, इससे जुड़े संस्थान, आदि के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो यह लेख आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होगा|

NMRC Recruitment 2019 : ग्रेजुएट के लिए अच्छा वेतन पाने का मौका

एयरोनॉटिक्स इंजीनियरिंग क्या है ? (Career In Aeronautical Engineering)

एयरोनॉटिक्स कोर्स का मतलब हवाई जहाज, उपग्रहों, रॉकेट या अंतरिक्ष यान के विकास के अध्ययन से होता हैं। इसके दो प्रमुख प्रकार हैं- एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग और एस्ट्रोनॉटिकल इंजीनियरिंग।

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग – एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में उन वाहनों के विकास का अधयन किया जाता है, जो पृथ्वी के वायुमंडल में उड़ते हैं और जिन पर वायुमंडल दाब कार्य करता है। जैसे- हेलीकॉप्टर, विमान, एयरोप्लेन आदि। इन सभी पर उड़ते समय वायुमंडल का दाब कार्य करता है तथा घर्षण जैसे कारकों को इस इंजीनियरिंग में संतुलित करने का अध्ययन करवाया जाता है।

एस्ट्रोनॉटिकल इंजीनियरिंग – एस्ट्रोनॉटिकल इंजीनियरिंग जैसा कि इसके नाम से प्रतीत हो रहा है एस्ट्रो अर्थात खगोल। इसमें उन वाहनों के विकास का अध्ययन किया जाता है, जो पृथ्वी के वायुमंडल के बाहर उड़ते है और जिन पर वायुमंडल दाब कार्य नहीं करता हैं। जैसे अंतरिक्ष यान और रॉकेट के अपर स्टेज। इसमें वाहनों को वायुमंडल के बाहर पड़ने वाले कारकों जैसे कॉस्मिक किरण, रेडिएशन और चुम्बकीय तरंग आदि से बचाव का अध्ययन करवाया जाता है।

Indian Independence Movement GK : भारतीय स्वतंत्रता संग्राम संबंधित प्रश्न

वैमानिकी इंजीनियरिंग योग्यता मापदंड

शैक्षिक योग्यता

अंडर ग्रेजुएट कोर्स (बी.टेक, बीई)

उम्मीदवार को सीबीएसई या दूसरे किसी अन्य बोर्ड से 10+2 में पास होना चाहिए।

उम्मीदवार को भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित विषय पढ़ा होना चाहिए।

पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स (एम.टेक, एमई)

उम्मीदवार के पास एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में बीटेक या बीई की डिग्री होनी चाहिए।

उम्मीदवार को ग्रेजुएशन में पढ़े गए विषयों में न्यूनतम अंकों के साथ पास होना चाहिए।

वैमानिकी इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय ( Aeronautical Engineering Colleges)

भारत में कुछ ऐसे विश्विद्यालय और संस्थान हैं जो एयरोनॉटिक्स इंजीनियरिंग कोर्स उपलब्ध करवाते हैं। इन विश्वविद्यालयों की सूची नीचे दी गई है। आप इस पेज को नीचे तक पढ़कर एयरोनॉटिक्स इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Vidhan Parishad Recruitment 2019 : सचिवालय में कई पदों पर भर्तियां

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, (IIT), मुंबई

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, (IIT), कानपुर

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, (IIT), चेन्नई

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, (IIT), खड़गपुर

भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान, (IIST) , तिरुवनंतपुरम

भारतीय विज्ञान संस्थान, (IISc), बैंगलोर

डॉ एपीजे अब्दुल कलाम तकनीकी विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश

फिरोज गांधी इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संस्थान, (FGIET), रायबरैली, उत्तर प्रदेश

बाबू बनारसी दास नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मैनेजमेंट, लखनऊ (BBDNITM), उत्तर प्रदेश

राइट ब्रदर्स इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, नई दिल्ली

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, देहरादून

हिंदुस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी, चेन्नई

नेहरू कॉलेज ऑफ एयरोनॉटिक्स एंड एप्लाइड साइंस, कोयम्बटूर

इंस्टीट्यूट ऑफ एयरोनॉटिक्स एंड इंजीनियरिंग, भोपाल

Share.