परीक्षार्थी इन बातों का रखें ध्यान

0

देश की सबसे मुश्किल परीक्षाओं में से एक है नीट, जो एमबीबीएस और बीडीएस में दाखिले के लिए होती है| नेशनल इलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट हर वर्ष लाखों परीक्षार्थियों को डॉक्टर बनने के सपने को पूरा करने का मौका देता है| इस वर्ष यह परीक्षा पूरे देश में 5 मई को आयोजित की जाएगी और देशभर के 2300 परीक्षा केंद्रों पर करीब 12 लाख कैंडिडेट्स यह परीक्षा देंगे|

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) द्वारा आयोजित की जाने वाली यह एक राष्ट्रीय स्तर की अहम एंट्रेंस एग्जाम है| इन पांच बातों का ध्यान रखकर छात्र इस परीक्षा में सफलता पा सकते हैं

पैटर्न का रखें ध्यान

परीक्षा में अपनी स्ट्रेटेजी बनाने से पहले परीक्षा का पैटर्न जानना जरूरी है| यह परीक्षा 3 घंटे चलती है और इसमें तीन सेक्शंस होते हैं, फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी| पेपर में कुल 180 सवाल होते हैं, जिनमें से बायोलॉजी के 90 और फिजिक्स-केमिस्ट्री के 45-45 सवाल होते हैं| एक सही जवाब के लिए चार मार्क्स और हर गलत जवाब के लिए नेगेटिव मार्क्स हैं| सवाल हल करने की कोशिश न किए जाने पर पेनल्टी मार्क्स हैं|

कंसेप्ट पर दें ध्यान

यह परीक्षा सही तरीके से हल करने के लिए कंसेप्ट को पढ़ें, समझें और उसे ध्यान में रखें| सिर्फ कुछ चीजों को रट लेने से आप अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सकते हैं|

पिछले साल के पेपर्स हल करें

नीट के परीक्षार्थियों को पिछले कुछ वर्षों के पेपर हल करके उन्हें समझना चाहिए| बिना पेपर हल किए किसी भी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी पूरी नहीं होती|

टॉपर स्ट्रेटेजी बनाएं

हर पढ़े हुए कंसेप्ट के नोट्स तैयार करके रखें और रिवीजन के लिए समय बचाएं| रिवीजन की अलग स्ट्रेटेजी बनाएं और उसे पूरा समय दें| परीक्षा के तुरंत पहले कोई नई चीज न पढ़ें|

एनसीईआरटी

नीट की तैयारी के लिए एनसीईआरटी की किताबें अहम् मानी जाती हैं| एनसीईआरटी की किताबों से बेसिक्स जरूर पढ़ लें|

Share.