प्रसिद्ध चित्रकार लियोनार्डो दा विंची की विश्वप्रसिद्ध पेंटिंग्स

0

लियोनार्डो दा विंची (Leonardo da vinci) को तो आप जानते ही होंगे। अगर नहीं जानते तो हम आपको बता दें कि ये दुनिया के उन मशहूर पेंटरों में से एक हैं, जिनकी पेंटिंग करोड़ों-अरबों में बिकती हैं। दुनिया में ऐसे बहुत ही लोग हैं, जो मरने के बाद भी अपने कामों की वजह से हमेशा लोगों के दिलों में जिंदा रहते हैं और लियोनार्डो दा विंची भी उन्हीं में से एक हैं। लियोनार्डो दा विंची का जन्म 15 अप्रैल, 1452 को इटली के विंची शहर में हुआ था और इसी कारण उनके नाम के आगे विंची लगाया गया है। वह आज भी अपनी प्रतिभा के लिए पूरे विश्व में जाने जाते हैं। कहते हैं कि वह एक ही बार में एक हाथ से लिख और दूसरे हाथ से पेंटिंग बना सकते थे।

Hindi Kahani : कमी निकालने और सुधार करने का अंतर

Leonardo Da Vinci

Leonardo Da Vinci

1-मोनालिसा पेंटिंग-

दुनिया की सबसे मशहूर पेंटिंग मोनालिसा पेंटिंग (Monalisa painting) लियोनार्डो दा विंची (Leonardo da vinci) ने ही बनायी थी। कहते हैं कि इस पेंटिंग को अलग-अलग एंगल से देखने पर मोनालिसा की मुस्कुराहट अलग-अलग नजर आती है। उस समय यह कैसे किया गया होगा, यह एक रहस्य ही है। कहते हैं कि लियोनार्डो दा विंची ने मोनालिसा की इस पेंटिंग को साल 1503 में बनाया शुरू किया था, जब वो 51 साल के थे, लेकिन 1519 में पेंटिंग को पूरा किये बिना ही वो इस दुनिया से चले गए। इसका मतलब ये है कि ये पेंटिंग अधूरी ही है, लेकिन देखने पर यह कहीं से भी अधूरी नहीं लगती है।

दुनिया का खूबसूरत शहर वेनिस समुद्री ज्वार से हुआ तबाह

Monalisa

Leonardo Da Vinci Is The Artist Behind Famous Painting Monalisa

जानकारी के अनुसार 1962 में इस पेंटिंग की कीमत 100 मिलियन डॉलर यानी करीब 688 करोड़ थी, लेकिन अब इसकी कीमत 830 मिलियन डॉलर यानी करीब 5712 करोड़ रुपये हो गई है। लियोनार्डो दा विंची (Leonardo da vinci) की इस पेंटिंग में दिख रही महिला कौन है, यह भी एक रहस्य ही है। कुछ लोगों का मानना है कि ये पेंटिंग लियोनार्डो दा विंची की एक कल्पना थी, तो वहीं कुछ लोग यह भी कहते हैं कि यह पेंटिंग एक व्यापारी की पत्नी की है, जो उसने दा विंची स बनवाई थी। मोनालिसा की पेंटिंग फिलहाल फ्रांस के लॉवरे म्यूजियम में है, जिसे एक खास तरह के कमरे में रखा गया है। साथ ही पेंटिंग को एक बुलेट प्रूफ शीशे के अंदर रखा गया है, ताकि उसे कोई नुकसान न पहुंचा पाये।

कहते हैं कि लियोनार्डो दा विंची ने इस पेंटिंग को बनाने में एक ऐसे पेंट ब्रश का इस्तेमाल किया था, जिसकी मोटाई 40 माइक्रो मीटर थी, यानी एक बाल से भी ज्यादा पतली। हैरानी की बात तो ये है कि इतने पतले पेंट ब्रश का इस्तेमाल करने पर भी यह पेंटिंग आज तक सुरक्षित है। मोनालिसा की इस पेंटिंग के बारे में यह भी कहा जाता है कि इसमें एलियन छुपा हुआ है। हालांकि इस बात की अभी तक पुष्टि नहीं हो पाई है, लेकिन अगर आप मोनालिसा की दो पेंटिंग्स लेते हैं और दोनों का मुंह बायें और दायें करके मिलाते हैं तो बीच में एक अजीबोगरीब आकृति बनती है, जो सोचने पर मजबूर कर देती है।

2-द लास्ट सपर-

जाने माने रोमन चित्रकार लियोनार्दो दा विंची (Leonardo da vinci) की मशहूर कलाकृति द लास्ट सपर (The last supper) की बेहद स्पष्ट तस्वीर अब इंटरनेट पर भी देखी जा सकती है. स्पष्ट इसलिए क्योंकि इस चित्र की प्रति बनाई गई है अरबों पिक्सल के एक कैमरे से. इंटरनेट पर जारी 16 अरब पिक्सल की ये तस्वीर पहले की तुलना में बिल्कुल साफ नज़र आती है. यानि अब ये पूर्व के एक करोड़ पिक्सल के डिजिटल कैमरा से खींची गई तस्वीर से 1600 गुना ज़्यादा स्पष्ट है.15वीं सदी में बनी इस तस्वीर को इंटरनेट के जरिए देखने के वास्ते कई तकनीकी सुविधाएं भी मुहैया कराई गई हैं. जैसे तस्वीर के जिस हिस्से को प्रमुखता से देखना हो उसे चुनकर बड़ा या छोटा करके स्पष्ट देखा जा सकता है. इसके साथ साथ इसके हर हिस्से के बारे में सूक्ष्म जानकारी भी उबलब्ध है वास्तविक रूप में ये कलाकृति इटली के मिलान शहर के सांता मारिया डेले ग्रेजी चर्च में रखी है.इसे इंटरनेट पर जारी करने के पीछे प्रदूषण से इसे होने वाला लगातार नुकसान बताया गया है. आर्ट क्यूरेटर एल्बर्टो अर्तियोली ने एपी को बताया कि इंटरनेट पर आप इस तस्वीर के हर हिस्से को जूम यानि बड़ा करके निहार सकते हैं जबकि वास्तविक तस्वीर में यह बेहद मुश्किल होता है.

अर्तियोली ने कहा ‘आप देख सकते हैं कि लियोनार्डो (Leonardo da vinci) ने इस तस्वीर में मौजूद कप को किसप्रकार पारदर्शी बनाया है. जबकि वास्तविक तस्वीर में इसे देख पाना संभव नहीं होता. इसके साथ ही इस कलाकृति में हुए क्षय को भी महसूस किया जा सकता है.’ विंची की इस तस्वीर को लगातार हो रहा नुकसान हाल के दिनों में काफी चर्चा और चिंता का विषय रहा था. इटली के एक अख़बार के अनुसार 1990 के दशक के आखिरी वर्षों में इस तस्वीर को संरक्षित करने का तरीका कारगर नहीं रहा, और दर्शकों के कारण भी इस तस्वीर को धूल और गंदगी से काफी नुकसान पहुंचा था. द लास्ट सपर को लियोनार्डो द विंची ने 15वीं सदी के आखिरी वर्षों में बनाई थी. हर साल लगभग साढ़े तीन लाख लोग इस कलाकृति को देखने आते हैं.

बॉलीवुड ‘परी’ का बर्थडे, विराट ने बनाया प्राइवेट प्लान!

-Mradul tripathi

Share.