ग्रामीण हेल्थकेयर वर्कर बनकर संवारें करियर

1

ग्रामीण हेल्थकेयर वर्कर एक मध्य स्तरीय स्वास्थ्य कर्मचारी होते हैं, जो सामान्य स्वास्थ्य समस्याओं का निराकरण और उपचार करने के लिए प्रशिक्षित किए जाते हैं ताकि किसी भी आपातकालीन स्थिति में प्रारंभिक प्रबंधन यानी शुरुआती इलाज उपलब्ध करवा सकें और आगे के इलाज के लिए गंभीर रूप से बीमार या घायल मरीजों को अस्पतालों तक पहुंचाया जा सके।

एक ग्रामीण हेल्थकेयर वर्कर की प्राथमिक जिम्मेदारियों में मामूली बीमारियों का इलाज, बुजुर्ग लोगों की देखभाल, गर्भवती महिलाओं और बच्चों की देखभाल शामिल होते हैं। वे मेडिकल प्रोफेशनल्स और शिक्षकों के लिए डाटा एकत्र करने से लेकर सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों को सफलतापूर्वक पूरा करने में मदद करते हैं।

कैसे बने हेल्थ केयर वर्कर

इस काम को वही कर सकता है, जो सेवाभावी हो, जिसके मन में स्वास्थ्य से जुड़ी बीमारियों को जड़ से निकाल फेंकने का सपना हो। यदि आपमें ये सभी खूबियां हैं तो इस फील्ड को करियर बना सकते हैं।

क्या होगी सैलरी

डिप्लोमा इन रूरल हेल्थ केयर का कोर्स करने के बाद आप बतौर कर्मचारी करियर की शुरुआत कर सकते हैं। इन्हें शुरूआत में 10 से 15 हजार रुपए तक मिल सकते हैं। अनुभव होने के साथ आप सुपरवाइज़र या डेवलपमेंट ऑफिसर बन सकते हैं।

प्रमुख संस्थान

– महर्षि मारकंडेश्वर यूनिवर्सिटी, अम्बाला (हरियाणा) https://www.mmumullana.org/

– इंडियन मेडिकल इंस्टीट्यूट ऑफ नर्सिंग, कोलकाता www.iminursing.in

–  दिल्ली पैरा एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली www.dpmiindia.com

अनुसूचित जाति को उच्च शिक्षा के लिए विशेष स्कॉलरशिप

‘न्यूक्लियर पॉवर कॉर्पोरेशन’ में भर्तियां

एयरफोर्स स्कूल में निकली भर्तियां

Share.