website counter widget

TRAI Rules 2019 : बुरी खबर, टीवी देखना होगा और महंगा

0

ट्राई (Telecom Regulatory Authority of India) लगातार अपने नियमों और कानूनों में बदलाव कर रहा है। ट्राई द्वारा ब्रॉडकास्टर (TRAI Broadcaster Traiff Rules 2019) और वितरकों पर लागू किए जाने वाले नियमों और कानून की वजह से अब टीवी देखना दिन ब दिन महंगा होता जा रहा है। फिलहाल ट्राई ने ग्राहकों को सुविधा देने और उन पर से भार कम करने के लिए नए नियम लागू किए थे। इस नियम के तहत ग्राहकों को उनकी पसंद के अनुसार चैनल चुनने का मौका दिया गया था। लेकिन ग्राहकों की शिकयत थी कि ट्राई के इस फैसले के बाद अब टीवी देखना पहले से भी महंगा हो गया है। इस वजह से ट्राई ने नया नियम बनाया है।

Airtel ग्राहकों के लिए बुरी खबर, बंद होने जा रहे नंबर

अब ट्राई ब्रॉडकास्टर (TRAI Broadcaster Traiff Rules 2019) और वितरकों की ओर से ग्राहकों को दिए जाने वाले बंपर ऑफर्स और डिस्काउंट पर अपनी पैनी नज़र रख रहा है। ट्राई ऐसे ऑफरों और डिस्काउंट पर रोक लगाने जा रहा है। दरअसल इन बंपर ऑफर्स और डिस्काउंट की वजह से ग्राहक ट्राई के प्लेटफॉर्म पर नहीं पहुंचते। ब्रॉडकास्टर और वितरकों द्वारा इस तरह के ऑफर देकर ग्राहकों को उसके प्लेटफॉर्म पर पहुंचने से रोक लेते हैं। इस मामले में दूरसंचार नियामक का कहना है कि इन ऑफर्स की वजह से ग्राहकों को चैनल चुनने की पूरी आजादी नहीं मिलती है। इस विषय पर ट्राई (Telecom Regulatory Authority of India) ने शुक्रवार को एक परामर्श पत्र जारी कर हितधारकों से उनकी राय मांगी है।

सोने और चांदी के दामों ने तोड़े सारे रिकॉर्ड

गौरतलब है कि ट्राई की तरफ से 29 दिसंबर, 2018 से नए नियम (TRAI Broadcaster Traiff Rules 2019) लागू किए गए थे। इन नियमों के तहत ग्राहकों को अपने पसंदीदा चैनल चुनने की आजादी दी गई थी। इसके तहत ग्राहकों को केवल उन्ही चैनलों का भुगतान करना होगा जो चैनल वे देखना चाहते हैं। इस नियम के लागू होने के बावजूद टीवी चैनल ब्रॉडकास्टर और डिस्ट्रीब्यूशन ऑपरेटर्स अपने ग्राहकों को नए-नए ऑफर्स मुहैया करवा रही है ताकि वे उनके ग्राहक बने रहे। इन ऑफर्स के तहत ग्राहकों को कुछ चुनिंदा चैनलों पर छूट दी जाती है।

बैंक ग्राहकों के लिए खुशखबरी, लोन हुआ सस्ता

जब कोई ग्राहक ऐसे ऑफर्स को लेता है तो उसे कई गैरजरूरी चैनल्स का भी भुगतान करना पड़ता है। इस बारे में दूरसंचार नियामक ट्राई ने कहा कि, इन ऑफर्स की वजह से ग्राहकों को चैनल चुनने की पूरी आजादी नहीं मिली है। अब इस मामले में ट्राई ने सभी हितधारकों से आगामी 30 सितम्बर तक डिस्काउंट, बुके की जरूरत और सीलिंग प्राइस पर उनकी राय मांगी है।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.