नए वित्तीय वर्ष में होंगे ये बदलाव

0

1 अप्रैल से वित्तीय वर्ष 2018-19 की शुरुआत होने जा रही है| नए वित्तीय वर्ष में सरकार द्वारा लागू किए गए कई बदलाव प्रभावी होंगे| इन बदलावों के साथ ही आम नागरिक के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ेगा, क्या हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में कुछ बड़ा बदलाव आएगा, पढ़िए इस विशेष स्टोरी में…

– बजट में ई-रेलवे टिकट पर सर्विस चार्ज घटाने का ऐलान हुआ था। इस तरह 1 अप्रैल से ऑनलाइन टिकट बुकिंग सस्‍ती हो जाएगी।

– 1 अप्रैल से इनकम टैक्स पर हेल्थ और एजुकेशन सेस 1 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ लागू होगा। बजट में इसे 3 से बढ़ाकर 4 फीसदी कर दिया गया था।

– सीनियर सिटीजन्स को पोस्टऑफिस और बैंकों से मिले 50,000 रुपए तक के ब्याज पर टैक्स नहीं लगेगा।

– जो लोग शेयर बाजार में पैसा लगाते हैं, उन्हें 1 अप्रैल से शेयर बाजार, इक्विटी म्यूचुअल फंड में किए निवेश पर 1 साल में 1 लाख रुपए से ज्यादा का फायदा होने पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स देना होगा।

– ई-वे बिल लागू हो सकता है। राज्यों के बीच 50,000 रुपए से अधिक मूल्य के वस्तुओं की ढुलाई के लिए ई-वे यानी इलेक्ट्रानिक वे बिल की जरूरत होगी। ट्रांसपोर्टर को जीएसटी से ई-वे बिल लेना होगा। हालांकि यह बिल व्यवस्था पहले भी टल चुकी है।

– बजट में कई ऐसे प्रावधान भी नए वित्तीय वर्ष में लागू होंगे, जिनका फायदा गरीब तबके पर पड़ेगा। जैसे – आयुष्मान भारत कार्यक्रम के तहत गरीबों के इलाज के लिए 1200 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। वहीं टीबी रोगियों के लिए भी सरकार 600 करोड़ रुपए खर्च करेगी।

Share.