website counter widget

एनडीटीवी के प्रमोटरों पर सेबी की कार्रवाई

0

नई दिल्ली टेलीविज़न लिमिटेड (NDTV ) के प्रमोटर्स प्रणय राय और राधिका रॉय पर हाल ही में सिक्योरिटीज़ एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) की बड़ी कार्रवाई हुई, जिसके बाद दोनों प्रमोटर्स को दो सालों तक शेयर बाज़ार से दूर रखने का आदेश जारी किया गया है। इसके अलावा सेबी (SEBI) ने प्रणय रॉय और उनकी पत्नी राधिका रॉय (NDTV Promoters Prannoy Roy And Radhika Roy) पर NDTV के निदेशक (Director ) या कोई भी अन्य प्रबंधकीय पद (Managerial Position) लेने पर भी रोक लगा दी है।

Video : कांग्रेस नेता के भाई ने महिला पर चलाए लात-घूंसे

दरसअल,  इस बड़े  फ़ैसले के पीछे कारण यह था कि दोनों प्रमोटर्स ने सेबी को आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) से लिए लोन से जुड़ी प्रमुख सूचनाएं ज़ाहिर नहीं की थीं। इतना ही नहीं,  इस दौरान सेबी ने प्रणय और राधिका के अलावा NDTV के एक और प्रमोटर को सिक्यॉरिटीज मार्केट से भी दूर रहने का आदेश दिया है। सेबी ने यह भी तय किया कि एनडीटीवी (NDTV) के आरआरपीआर होल्डिंग्स (RRPR Holdings) के म्युचुअल फंडों (Mutual Funds) में होने वाले सारे निवेश कम से कम दो सालों के लिए फ्रीज़ रहेंगे।

मप्र: बीजेपी नेता को मार कर लिखा THE END

विवादों के चलते, रॉय दंपती अब एक वर्ष तक किसी भी लिस्टेड कंपनी (Listed Company) में बोर्ड पोजिशन (Board Position) या मैनेजेरियल पोस्ट (Managerial Post) नहीं ले पाएंगे।

कब हुई NDTV की स्थापना?

प्रणय राय और उनकी पत्नी राधिका रॉय ने वर्ष 1988 में एनडीटीवी (NDTV) की स्थापना की थी। सेबी के दिए आदेशों के बाद रॉय दंपत्ति ने क़ानूनी कार्रवाई करने की बात कही, जिसके बाद NDTV की आधिकारिक वेबसाइट पर उनका बयान प्रकाशित किया गया है।

किए गए तीन लोन अग्रीमेंट

एनडीटीवी के प्रमोटरों ने कुल मिलाकर तीन लोन एग्रीमेंट किए थे। एक आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) के साथ और दो वीसीपीएल (VCPL) के साथ। बिजनेस की टर्म्स में इन एग्रीमेंट्स में मटेरियल और प्राइस सेंसिटिव इन्फॉर्मेशन (Material and Price Sensitive Information) थी।

जय श्री राम का नारा हो मौलिक अधिकार

सेबी को 2017 में मिली शिकायत

इस मामले के बढ़ने का कारण स्वयं NDTV के एक शेयरधारक (Shareholder) क्वांटम सिक्योरिटीज़ (Quantum Securities) है, जिनसे सेबी को शिकायत मिली है कि प्रमोटरों द्वारा लोन एग्रीमेंट (Loan Agreement) के मटेरियल इन्फॉर्मेशन (Material Information) का खुलासा नहीं किया, जिससे नियमों का उल्लंघन हुआ है। शिकायत मिलने पर सेबी ने तकरीबन 9 सालों तक यानी अक्टूबर 2008 से नवंबर 2017 के दौरान एनडीटीवी की गतिविधियों पर नज़र रखी।  इस दौरान रॉय दंपती ही एनडीटीवी (NDTV) के प्रमोटर थे।

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.