website counter widget

SBI ने और भी सस्ता किया होम-ऑटो-पर्सनल लोन

0

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) ने एक बार फिर अपने उपभोक्ताओं को खुशखबरी दी है। पिछले माह ही SBI ने अपने अपनी ब्याज दरों में  0.10 फीसदी तक की कटौती कर हजारों ग्राहकों को लाभ पहुंचाया था। एक बार फिर SBI ने अपने उपभोक्ताओं के लिए लोन को सस्ता करने का फैसला लिया है। जी हां SBI ने अपने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट  में कटौती करने की घोषणा की है। इस कटौती के बाद होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन भी काफी सस्ता हो जाएगा। (MCLR) में कटौती किए जाने से आम आदमी को बहुत फायदा होता है। इससे उपभोक्ताओं का मौजूदा लोन सस्ता हो जाता है। मतलब उपभोक्ताओं की मौजूदा EMI कम हो जाती हैं और उन्हें पहले की तुलना में कम EMI भरनी पड़ती है।

टिकटॉक का वापसी के बाद धमाका, दे रही लाखों का इनाम

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपनी बैठक में अपने रेपो रेट को 0.25 फीसदी घटाने का फैसला लिया। RBI के इस फैसले के बाद से सभी सरकारी बैंक भी अपनी ब्याज दरें घटाने की घोषणा कर चुके हैं। अब भारतीय रिजर्व बैंक  (RBI) जून माह में अपनी अगली बैठक करेगा। गौरतलब है कि SBI ने अपने रेपो रेट को RBI से जोड़ दिया है। इस नियम के लागू होने के बाद अब RBI के रेपो रेट में होने वाले बदलाव का सीधा असर SBI की दरों पर पड़ता है। SBI द्वारा मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट (MCLR) 0.05 फीसदी कम किए जाने के बाद, एक साल के कर्ज के लिए MLCR 8.45 फीसदी हो गया है। इस कटौती से पहले एक साल के कर्ज पर MLCR 8.50 फीसदी था।

इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने से पहले जरूर पढ़ें यह खबर

अपने लोन को लेकर SBI ने बीती एक मई से अपने नियमों में बदलाव किया था। रेपो रेट को RBI से जोड़ने के बाद इसका सीधा असर हजारों ग्राहकों पर पड़ा। हालांकि यह नियम 1 लाख से ज्यादा के लोन पर ही लागू किया गया है। अभी 1 लाख रुपए तक के डिपॉजिट के लिए 3.5 फीसदी ब्याज दिया जा रहा है। जबकि 1 लाख से अधिक का डिपॉजिट करने पर उपभोक्ता को 3.25 फीसदी ब्याज दिया जा रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जून में होने वाली RBI की बैठक में रेपो रेट में 0.25% और कटौती की जा सकती है। RBI रेपो रेट में और कटौती किए जाने पर विचार कर रही है। इससे पहले इस माह की शुरुआत में हुई बैठक में भी 0.25% की कटौती की गई थी।

इंश्योरेंस पॉलिसी को पोर्ट करने का तरीका

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.