website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

2000 रुपए के नोट पर लगा ब्रेक…

0

दो साल पहले नोटबंदी के बाद जारी किया गया 2000 रुपए के नोट बाज़ार में कम दिख रहे हैं। अब एक बड़ी ख़बर सामने आई है। सरकारी सूत्रों के अनुसार 2000 के नोट की छपाई पर ब्रेक लग गया है। इस पर केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक ने बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के अनुसार 2000 रुपए नोट की छपाई न्यूनतम स्तर (2000 Note Printing Scales Down) पर पहुंच गई है।

Image result for 2000 note

न्यूनतम स्तर पर लाने का फैसला (2000 Note Printing Scales Down)

Image result for modi

वित्त मंत्रालय के शीर्ष अधिकारी ने बताया कि रिजर्व बैंक और सरकार समय-समय पर करेंसी की छपाई की मात्रा पर फैसला करता है। इसका फैसला चलन में मुद्रा की मौजूदगी के हिसाब से किया जाता है। जिस समय 2000 का नोट जारी किया गया। तभी यह फैसला किया था कि धीरे-धीरे इसकी छपाई को कम किया जाएगा। 2000 के नोट को जारी करने का एकमात्र मकसद प्रणाली में तत्काल नकदी उपलब्ध कराना था।

Image result for rbi

328.8 करोड़ नोट चलन में

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक मार्च 2017 के अंत तक 328.5 करोड़ इकाई 2000 के नोट चलन में थे। 31 मार्च, 2018 के अंत तक इन नोटों की संख्या मामूली बढ़कर 336.3 करोड़ इकाई पर पहुंच गई। मार्च 2018 के अंत तक कुल 18,037 अरब रुपए की करेंसी चलन में थी। इनमें 2000 के नोटों (2000 Note Printing Scales Down) का हिस्सा घटकर 37.3 प्रतिशत रह गया। मार्च, 2017 के अंत तक कुल करेंसी में 2000 के नोटों का हिस्सा 50.2 प्रतिशत पर था। इससे पहले नवंबर 2016 में 500, 1000 रुपए के जिन नोटों को बंद किया गया था। उनका कुल मुद्रा चलन में 86 प्रतिशत तक हिस्सा था।

कुशाग्र

नोटबंदी और जीएसटी खराब फैसला : राजन

नोटबंदी पर पूर्व चुनाव आयुक्त का बयान…

कृषि मंत्रालय ने माना, हुआ नोटबंदी से नुकसान

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.