website counter widget

मौद्रिक नीति समीक्षा में अपरिवर्तित रेपो रेट

0

भारतीय रिजर्व बैंक ने बुधवार को मौद्रिक नीति की समीक्षा की, जिसमें रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया| बैंक की छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने तीन दिवसीय समीक्षा बैठक में रेपो रेट को 6.5 प्रतिशत पर बरकरार रखने का फैसला किया| दरअसल, जून के बाद से केंद्रीय बैंक ने नीतिगत दरों में दो बार बढ़ोतरी कर दी थी| वहीं बढ़ती तेल की कीमतें और मुद्रास्फीति के दबाव के कारण यह कहा जा रहा था कि ब्याज दरों में वृद्धि होगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ|

बैठक ने रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया है| रेपो रेट उस रेट को कहते हैं, जिस पर रिजर्व बैंक अन्य वाणिज्यिक बैंकों को ऋण देता है| रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की छह सदस्यीय समिति की बैठक तीन दिसंबर से हो रही है| यह इस वर्ष की पांचवी द्वैमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक है|

क्यों चर्चा का विषय बनी बैठक

यह तीन कारणों के कारण चर्चा का विषय बनी हुई है| पहला, केन्द्रीय बैंक देश में महंगाई के खतरे को कैसे आंक रहा है और दूसरा क्या केन्द्रीय बैंक ने रेपो रेट और कैश रिजर्व रेशो में बदलाव किया है| इस बैठक में केन्द्र सरकार सहित बाजार की नज़र रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल पर लगी है|

Share.