अब विमान यात्रियों का चेहरा ही होगा उनका बोर्डिंग कार्ड

0

देश में जहां एक तरफ भारतीय रेलवे हमेशा ही यात्रियों की सुविधाओं का ध्यान रखते हुए अपने यात्रियों को तरह-तरह की सुविधाओं का लाभ देता है। उसी तरह अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट ‘डिजी यात्रा’ (Digi Yatra) आरंभ होने जा रहा है। इस सुविधा के शुरू हो जाने से विमान में सफर करने वाले यात्रियों को बेहद राहत मिलेगी। इस सुविधा के तहत विमानयात्री पूरे देश में महज़ कुछ ही मिनटों में विमान पर सवार हो जाएंगे। देश भर के सभी हवाई अड्डों पर अब सुरक्षा जांच के लिए उच्च तकनीक युक्त बॉडी स्कैनर, चेहरों की पहचान की प्रौद्योगिकी और आधुनिक प्रबंधन प्रणाली स्थापित की जा रही है।

सरकार की नई योजना, मात्र 2 रुपए में मिलेगी 36,000 की पेंशन ऐसे उठाएं लाभ

इन सभी तकनीकों से यात्रियों की जांच में लगने वाले समय में काफी कमी आ जाएगी। ये सभी जांच 1 मिनट से भी कम समय में पूरी कर ली जाएंगी। इस सुविधा के लागू हो जाने से यात्रियों को सुरक्षा जांच के विभिन्न स्तरों से गुजरना बेहद ही आसान हो जाएगा।

फिलहाल मौजूदा समय में यात्रियों को सुरक्षा जांच के लिए बेहद ही लंबी-लंबी कतारों में तकरीबन घंटे भर तक इंतजार करना पड़ता है। इस सुविधा (Digi Yatra) के लागू हो जाने के बाद यात्रियों को न तो लंबी कतार में लगना होगा और न ही इतने समय तक इंतजार करना होगा। 1 मिनट से भी कम समय में अब यात्री सभी सुरक्षा घेरों को बड़ी आसानी से पार कर लेंगे। अब देशभर के सभी हवाई अड्डों पर मेट्रो स्टेशनों की तरह ही फ्लैग गेट स्थापित किए जाएंगे। एयरपोर्ट पर स्थापित किए जाने वाले यह फ्लैग गेट यात्रियों के चेहरों की बायोमेट्रिक पहचान कर स्वतः ही कुल जाएंगे।

बुरी खबर! ये बैंक हुआ बंद जल्दी निकाल लें पैसे

प्रधानमंत्री मोदी के इस ड्रीम प्रोजेक्ट डिजी यात्रा (Digi Yatra) के पायलट प्रोजेक्ट को इस साल फरवरी में मुंबई और हैदराबाद में कुछ चुनिंदा उड़ानों के लिए शुरू किया गया था। फिलहाल सोमवार को इस सुविधा का परीक्षण बेंगलुरू एयरपोर्ट पर किया गया था। इस मामले में केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के महानिदेशक स्तर के अधिकारियों ने बताया कि इस परीक्षण की रिपोर्ट पॉजिटिव रही।

उन्होंने कहा कि चेहरों की पहचान प्रणाली प्री-एंबारकेशन सिक्योरिटी चेक (PESC) बोर्डिंग के आखिरी गेट तक बेहद ही सफल रही। इसके लिए डिजी यात्रा (Digi Yatra) कियोस्क पर चयनित यात्रियों का पंजीकरण करवाय गया था। चयनित यात्रियों का पंजीकरण करवाने के साथ ही उनके चेहरों की पहचान ली गई। इस सुविधा के तहत यात्रियों के चेहरों की बायोमेट्रिक पहचान की गई और उन्हें सुरक्षा घेरे को पार करने के लिए बेहद ही कम समय लगा।

अब टोल टैक्स होंगे डिजिटल, लंबी कतारों से मिलेगा छुटकारा

इस मामले में एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “यात्रियों को निर्बाध हवाई यात्रा की सुविधा प्रदान करने के लिए चेहरा अब उनका बोर्डिंग कार्ड बन जाएगा। यात्रियों की अनुमति लेने के बाद चेहरों की पहचान बनाई जाएगी। इसके बाद यात्री फ्लैट गेट से गुजरेंगे जो चेहरों की बायोमेट्रिक पहचान प्रौद्योगिकी से खुलेंगे।”

Share.