अब पहले से आसान हो जाएगा सफ़र

0

अब यात्रियों को ट्रेन में आधार या ड्राइविंग लाइसेंस लेकर चलने की जरूरत नहीं है| भारतीय रेल ने ट्रेन में इन फोटो आईडी के डिजिटल अवतार को स्वीकार करने को मंजूरी दे दी है| हां, रेलवे ने यह जरूर साफ किया है कि इन दस्तावेजों में से किसी एक की कॉपी सरकार द्वारा संचालित डिजिटल स्टोरेज सर्विस डिजीलॉकर  में रखनी होगी| डिजीलॉकर में कोई भी नागरिक अपने आधिकारिक दस्तावेज रख सकता है| रेलवे ने इस संबंध में अपने सभी जोन के प्रमुखों को इस आदेश से अवगत करवा दिया है|

डिजीलॉकर में खुद अपलोड करने पर मान्य नहीं होगी आईडी

रेलवे ने जो आदेश जारी किया है, उसके मुताबिक यदि कोई यात्री डिजीलॉकर के माध्यम से अपना पहचान-पत्र दिखाता है तो वह ट्रेन में मान्य होगा| इसके लिए जरूरी है कि आधार या ड्राइविंग लाइसेंस डिजीलॉकर एकाउंट के ‘इश्यूड डॉक्यूमेंट’ सेक्शन में होना चाहिए| खबर के मुताबिक, यदि ये दस्तावेज यूजर ने खुद अपलोड किए हैं तो वह ट्रेन में मान्य नहीं होंगे| मोदी सरकार ने डिजिटल इंडिया अभियान के तहत डिजीलॉकर सुविधा मुहैया करवाई है| इसमें ड्राइविंग लाइसेंस या आधार डिजिटल फॉर्मेट में रहते हैं| सरकार ने छात्रों को मार्कशीट डिजिटल फॉर्मेट में जारी करने के लिए सीबीएसई से कहा है| उपभोक्ता अपना पैन भी डिजीलॉकर में अपडेट कर सकते हैं|

Share.