कॉर्पोरेट वॉर में फंसी नेवी की बड़ी परियोजना

0

अनिल अंबानी की रिलायंस नेवी ऐंड इंजीनियरिंग लिमिटेड (RNEL) ने नौसेना के एक सीनियर अधिकारी के खिलाफ रक्षा मंत्रालय में शिकायत की है|  उसने अधिकारी पर एक कॉन्ट्रैक्ट में अपनी प्रतिद्वंद्वी कंपनी लार्सन ऐंड टूब्रो का पक्ष लेने का आरोप लगाया है| आरएनईएल का कहना है कि अधिकारी के बेटे की नौकरी एलऐंडटी में लगी हुई है|  इस शिकायत पर आंतरिक जांच चल रही है| इसकी वजह से ‘मेक इन इंडिया’ के तहत 20,000 करोड़ रुपये में नेवी के युद्धक पोत बनाने की डील फंस गई है|  इस मामले में ‘पक्षपात करने और इनसाइडर इंफॉर्मेशन देने’ के आरोप लगाए गए हैं|

चार एंफीबियस वॉरशिप भारत में बनाने का कॉन्ट्रैक्ट पिछले साल से लटका हुआ है|  सालभर पहले रक्षा मंत्रालय ने ये वॉरशिप बनाने के लिए एलऐंडटी और आरएनईएल को शॉर्टलिस्ट किया था| आरएनईएल की शिकायत में खासतौर से यह कहा गया है कि एक टॉप नेवी ऑफिसर के पुत्र एलऐंडटी के डिफेंस डिवीजन में काम करते हैं| अधिकारियों ने बताया कि इस मामले की रक्षा मंत्रालय में जांच शुरू होने पर संबंधित अधिकारी ने भी अपनी राय भेजी है, जो वाइस एडमिरल पद पर हैं|

आरएनईएल के प्रवक्ता ने कहा, ‘हां, हमने इस मामले में आधिकारिक रूप से शिकायत की है|’ हालांकि उन्होंने डीटेल्स देने से मना कर दिया। संपर्क करने पर एलऐंडटी के अधिकारियों ने आरोपों को खारिज किया| एलऐंडटी के एक टॉप ऑफिशियल ने कहा, ‘हमारी कंपनी ऐसी हरकतें नहीं करती है।’ नेवी ने बार-बार सवाल भेजने पर भी कोई कॉमेंट नहीं किया| इस कॉन्ट्रैक्ट के लिए दोनों कंपनियों में तीखी होड़ चल रही है| जो भी कंपनी यह ठेका हासिल करेगी, उसकी किस्मत चमक जाएगी|

Share.