OMG : जॉनसन एंड जॉनसन ने स्वीकारी गलती, हजारों ज़िंदगी से हुआ खिलवाड़

2

जॉनसन एंड जॉनसन कंपनी के प्रोडक्ट्स पर कई सवाल उठाए जा रहे हैं | उनके स्वास्थ्य संबंधी उत्पादों को जानलेवा बताया जा रहा है, इसी बीच कंपनी की ओर से एक चौंकाने वाला बयान सामने आया है| कंपनी ने खुद माना है कि उनके द्वारा बेचे गए हिप रिप्‍लेस्‍मेंट सिस्‍टम जानलेवा है| उनसे मरीजों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है| इसके बाद भी अमरीका से रिजेक्‍टेड खराब हिप रिप्‍लेस्‍मेंट सिस्‍टम भारत में करीब 3600 मरीजों को बेचे गए|

कंपनी ने ‘सेंट्रल ड्रग्‍स स्‍टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन’ को एक रिपोर्ट सौंपी है, जिसमें उसने माना, “जिन्होंने उनके सिस्टम ख़रीदे, उनमें 10 में से दो मरीजों (जिन्‍होंने हिप इम्‍प्‍लांट के बाद खराबी की बात कही थी) ने 40 साल से कम उम्र में दोबारा सर्जरी कराई, उनके कूल्‍हे में तेज दर्द रहता है, उन्‍हें चलने में कठिनाई होती है, हड्डी संबंधी रोग हो रहे हैं| यही कारण है कि उनकी रिवीजन सर्जरी हो रही है|”

गौरतलब है कि स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की ओर से बनाई गई कमेटी द्वारा पेश की गई रिपोर्ट ने यह बताया कि भारत में जॉनसन एंड जॉनसन द्वारा बेचे गए सिस्टम अमरीका में पहले ही रिजेक्ट हो चुके थे| ऐसे कई मामले हैं, जिनमें हिप इम्‍प्‍लांट से उलटा असर हुआ| मंगलवार रात फार्मा और चिकित्‍सा उपकरण क्षेत्र के नियामक सेंट्रल ड्रग स्‍टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन ने अपनी वेबसाइट पर एक रिपोर्ट अपलोड की है, जो फरवरी में दाखिल हुई थी|

खराब हिप रिप्‍लेसमेंट सिस्‍टम से सैकड़ों मरीजों की जान खतरे में आ गई है| इनमें 4 की मौत भी हो चुकी है| समिति ने सिफारिश की है कि कंपनी हरेक प्रभावित मरीज को 20 लाख रुपए मुआवजा दें और अगस्‍त 2025 तक सभी मरीजों के खराब सिस्‍टम बदले| वहीं केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री जेपी नड्डा ने कहा कि वह कंपनी के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई करेंगे|

हिप इम्प्लांट विवाद : जॉनसन एंड जॉनसन की चौंकाने वाली लापरवाही

Share.