चीन से कच्चा तेल खरीदना बंद

0

भारत और चीन के बीच जारी तनाव के बाद  भारत सरकार ने कुछ चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगा दिया है. इसी क्रम में केंद्र सरकार ने एक और बड़ा कदम उठाते हुए चीन को सबक सिखाने का काम जारी रखा है. सरकारी भारतीय तेल कंपनियों ने अब चीन से जुड़ीं कंपनियों से कच्चा तेल खरीदना बंद कर दिया है. सरकार के निर्देश के तहत अब  भारतीय तेल कंपनियां अब चीन से जुड़ीं कंपनियों से कच्चा तेल नही खरीदेंगी. भारत की सीमा से लगने वाले देशों से आयात को प्रतिबंधित करने का लक्ष्य सरकार पहले ही निर्धारित कर चुकी है .

रिलायंस-बीपी पेट्रोल पंपों की स्थापना से सरकारी तेल कंपनियों की बढ़ेंगी मुश्किलें

सीमा विवाद के बीच 23 जुलाई को मोदी सरकार ने नए नियमों की घोषणा की और आदेश के जारी होने के बाद से सरकारी रिफाइनरियां अपने आयात टेंडर में इससे संबंधित एक क्लॉज जोड़ने का मन बना रही हैं. सरकारी कंपनियां भारत के साथ सीमा वाले देशों की कंपनियों के साथ लेनदेन को प्रतिबंधित करने के लिए टेंडरों में शर्त जोड़ रही हैं. भारतीय कंपनियों ने सीएनओओसी लिमिटेड, यूनिपेक और पेट्रोचाइना को पिछले सप्ताह से कच्चे तेल के आयात वाले टेंडर देने से मना कर दिया है. नए नियमों के अनुसार, भारतीय टेंडर में भागेदारी के लिए पड़ोसी देशों की कंपनियों को वाणिज्य विभाग के साथ रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी कर दिया गया था. साथ ही तेल कंपनियों ने चीनी कंपनियों के मालिकाना हक वाले तेल टैंकरों की बुकिंग को भी बंद करने का फैसला लिया है.

Petrol rate today: पेट्रोल-डीजल 83 दिन बाद लगातार दूसरी बार महंगा, चारों महानगरों में आज का भाव - The Financial Express

व्यापार पर प्रभाव 

इस फैसले से तेल कंपनियों के व्यापार पर कोई बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा

ऐसे जहाजों में चीनी जहाजों की संख्या बहुत कम है

भारत सरकार के इस ताजा फैसले से हर वह जहाज कारोबार के मामले में दायरे से बाहर हो जाएगा, जिसका चीन के साथ कोई भी संबंध होगा.

Share.