चीन-अमरीका ट्रेड वॉर में भारत रहेगा निष्पक्ष

0

अमरीका और चीन व्यापार के मामले में दुनिया के दो सबसे शक्तिशाली देश हैं और इन दोनों देशों के व्यापार से विश्व की आर्थिक स्थिति पर विशेष प्रभाव पड़ता है| ऐसे में चीन और अमरीका के बीच ट्रेड वॉर की स्थिति से हर देश की नीतियां प्रभावित हो रही हैं| चीन और अमरीका के बीच ट्रेड वॉर लगभग तय माना जा रहा है, लेकिन इस वॉर में भारत की भूमिका पर पूरी दुनिया की नजर होगी|

भारत और चीन के बीच चल रहे स्ट्रैटेजिक इकोनॉमिक डायलॉग (SED) के बाद भारत ने कहा कि वह अमरीका और चीन के बीच चल रहे ट्रेड वॉर में किसी का भी पक्ष नहीं लेगा| चीन और भारत के बीच कई मुद्दों को लेकर विवाद की स्थिति बनी रहती है और इस वार्ता के दौरान भी चीन की विवादास्पद ‘वन बेल्ट-वन रोड’ को लेकर भी दोनों पड़ोसियों में मतभेद बना रहा|

स्ट्रैटेजिक इकोनॉमिक डायलॉग (SED) की इस बैठक में भारत का नेतृत्व नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने किया| पांच दिवसीय इस वार्ता के बाद कुमार ने कहा, “भारत नियम आधारित बहुपक्षीय व्यापार व्यवस्था का समर्थन करता है| इस लिहाज से हमें इधर-उधर किसी का पक्ष लेने की जरूरत नहीं है|” कुमार ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि भारत ने व्यापार के मुद्दे पर हमेशा स्वतंत्र रुख लिया है|

अमरीका और चीन के बीच चल रहे ट्रेड वॉर में अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चीन पर 375 अरब डॉलर के व्यापार घाटे को दूर करने के लिए चीन पर दबाव बढ़ा रहे हैं, वहीं चीन व्यापार के क्षेत्र में अपना वर्चस्व कायम रखने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है|

Share.