पति-पत्नी मिलकर लें होम लोन तो होगा जबरदस्त फायदा

0

हर व्यक्ति अपने सपनों का आशियाना चाहता है और इसके लिए वह काफी मेहनत भी करता है। इसके के लिए लोग होम लेने (Working Couples Home Loan Benefits) के बारे में भी विचार करते हैं। लेकिन घर खरीदने के लिए बड़ी डाउन पेमेंट (Down Payment) और फिर ज्यादा ईएमआई (EMI) की वजह से लोग अपनी इच्छाओं को मार देते हैं। अगर आप भी अपने सपनों का आशियाना लेना चाहते हैं लेकिन लोन (Loan) की ईएमआई (EMI) के बारे में सोच कर परेशान हैं, तो आज आपको हम ऐसा तरीका बताने जा रहे हैं जिसके द्वारा आप अपने सपनों का आशियाना बेहद आसानी से ले सकते हैं।

अगर पति-पत्नी दोनों ही नौकरी करते हैं तो दोनों मिलकर अपने घर का सपना साकार कर सकते हैं। ऐसे में दोनों पार्टनर मिलकर संयुक्त तरीके से लोन ले सकते हैं। अगर संयुक्त रूप से होम लोन लिया जाए तो इसके कई फायदे मिलते हैं।

तो चलिए जानते हैं उन्ही फायदों के बारे में (Working Couples Home Loan Benefits) :

गैस एजेंसी लेकर करें मोटी कमाई, इस तरह करें आवेदन

कम ब्याज दर

अगर दोनों पार्टनर मिलकर होम लोन लेते हैं तो कोई भी बैंक या फिर हाउसिंग फाइनेंस कंपनियां ज्यादा राशि प्रदान करती हैं। इतना ही नहीं यदि पत्नी का नाम को-ऑनर के तौर पर पहले शामिल किया जाता है तो ब्याज दरों में भी काफी छूट प्राप्त हो जाती है और काफी कम ब्याज दर लगती है।

रजिस्ट्री में फायदा

अगर घर की रजिस्ट्री महिला के नाम पर कराई जाए तो सरकार की तरफ से स्टांप ड्यूटी में 2 फीसदी की छूट दी जाती है। ऐसे में दम्पत्ति को एक करोड़ रुपए की संपत्ति पर 2 लाख रुपए तक का फायदा मिलता है।

ATM की सुरक्षा को लेकर RBI ने जारी किए निर्देश

3 लाख की बचत

होम लोन की मूल राशि पर 1.5 लाख रुपए से ज्यादा के टैक्स पर छूट का प्रावधान है। यह छूट आयकर कानून के अधिनियम सेक्शन 80सी के तहत मिलती है। इस छूट का फायदा पति और पत्नी दोनों साथ मिलकर भी उठा सकते हैं। ऐसे में उन्हें 3 लाख रुपए तक की छूट मिल जाएगी।

4 लाख की छूट

इसके अलावा दोनों अलग-अलग ब्याज पर छूट ले सकते हैं। नियम के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति ईएमआई (EMI) पर प्रतिवर्ष 2 लाख रुपए तक की छूट प्राप्त कर सकता है। इस तरह पति-पत्नी साल भर में 4 लाख रुपए तक की छूट प्राप्त कर सकते हैं। हालांकि इसके लिए लोन की ईएमआई (EMI) संयुक्त खाते से चुकाई जानी चाहिए और दोनों की सालाना इनकम टैक्सेबल होनी चाहिए।

GST के दायरे से बाहर हैं ये वस्तुएं, देखिए सूची

Share.