website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

RBI Credit Policy 2019 : इस तरह सस्ता होगा होम और कार लोन

0

आरबीआई (RBI Credit Policy 2019) गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता में हुई पहली मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक में बड़ा फैसला लिया गया है | भारतीय रिज़र्व बैंक ने रिवर्स रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती कर दी है| अब यह 6.50 फीसदी से घटकर 6.25 प्रतिशत के स्तर पर पहुंच गया है| यदि महंगी ब्याज दरों के कारण आप अपने सपनों का आशियाना नहीं बना पा रहे हैं या महंगी दरों के कारण कोई प्रॉपर्टी या कार नहीं खरीद पा रहे हैं तो इस फैसले से आप पर होमलोन और कार लोन की ईएमआई का बोझ कम पड़ेगा|

WOW : RBI के फैसले से सस्ता कर्ज

दरअसल, रेपो रेट (RBI Credit Policy 2019) घटने से आपके लिए बैंकों से कर्ज लेना सस्ता हो जाएगा और आपकी ईएमआई भी घट जाएगी| आपकी ईएमआई कितनी घटेगी, इसकी गणना लोन की मूल राशि, ब्याज दर, कितने साल के लिए लोन लिया है और फिलहाल ईएमआई कितनी है, इसके आधार पर की जा सकती है|

होम लोन की ईएमआई अब इतनी कम होगी

होम लोन अवधि मौजूदा ईएमआई नई ईएमआई सालाना बचत
30 लाख रुपये 25 साल 24,460.00 23955.00 6060 रुपये

नोट: SBI के मौजूदा होम लोन पर ब्याज दर 8.65 के आधार पर (0.25% घटे ब्याज के साथ नई EMI)

कार लोन की ईएमआई अब इतनी कम होगी

कार लोन अवधि मौजूदा ईएमआई नई ईएमआई सालाना बचत
5 लाख रुपये  5 साल 10,428.00 रुपये 10,367.00 732 रुपये

नोट: SBI के मौजूदा कार लोन पर ब्याज दर 9.20 के आधार पर (0.25% घटे ब्याज के साथ नई EMI)

क्या होता है रिवर्स रेपो रेट (RBI Credit Policy 2019)

भारतीय रिजर्व बैंक की कार्रवाई

RBI द्वारा आई RRR यानी रिवर्स रेपो रेट में कमी की गई है| यह वह दर होती है, जिस पर बैंकों को उनकी ओर से आरबीआई (RBI) में जमा धन पर ब्याज (Interest rates) मिलता है| रिवर्स रेपो रेट (Reverse Repo Rate) बाज़ारों में नकदी की तरलता को नियंत्रित करने में काम आती है| दरअसल, जब भी बैंकों के पास फंड की कमी होती है, तो वे इसकी भरपाई करने के लिए केंद्रीय बैंक यानी आरबीआई से पैसे लेते हैं| आरबीआई की तरफ से दिया जाने वाला यह लोन एक फिक्स्ड रेट पर मिलता है| यही  रेपो रेट कहलाता है|

सस्ती दर पर बैंकों को मिलने वाले फंड से बैंक अपने कस्टमर्स को सस्ती दर पर लोन देंगे| इससे आम आदमी को सस्ता कर्ज मिलेगा और उसकी ईएमआई में भी कमी आएगी| यही कारण है जब भी रेपो रेट बढ़ता है तो आपके कर्ज की ईएमआई बढ़ जाती है और जब रेपो रेट घटता है तो ईएमआई घट जाती है|

विश्व बैंक लाया भारत के लिए खुशख़बरी…

-अंकुर उपाध्याय

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.