website counter widget

HDFC बैंक की उपभोक्ताओं को चेतावनी, एक फोन कर देगा खाता खाली

0

देश में ऑनलाइन फ्रॉड के केस ज्यादा बढ़ गए हैं। आय दिन कोई न कोई व्यक्ति ऑनलाइन धोखाधड़ी का शिकार हो जाता है। ऐसे में अब HDFC बैंक ने अपने खाताधारकों के लिए एक चेतावनी जारी की है। HDFC बैंक ने ऑनलाइन बैकिंग का इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ताओं को यह चेतावनी जारी (HDFC Bank Warns Customers) की है और उन्हें सावधान रहने की सवाल दी है। इस चेतावनी में बैंक की तरफ से कहा गया है कि ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल करने वाले उपभोक्ता AnyDesk नाम की मोबाइल एप्लीकेशन से बच कर रहें।

एसबीआई ने ग्राहकों को दी फ्रॉड की चेतावनी

HDFC बैंक की तरफ से कहा गया (HDFC Bank Warns Customers) है कि आजकल हैकर्स UPI का सहारा लेकर उपभोक्ताओं को चूना लगा रहे हैं और उनके खाते से पैसे चोरी कर रहे हैं। अपने सभी उपभोक्ताओं को चेतावनी जारी करते हुए HDFC बैंक ने यह जानकारी साझा की है। बैंक ने कहा कि हैकर्स AnyDesk नाम की ऐप का इस्तेमाल करते हैं और फिर उपभोक्ताओं के मोबाइल का रीमोट एक्सेस हासिल करके उनके खाते से पैसे निकाल लेते हैं। इसके लिए हैकर्स कई तरह के और अलग-अलग तरीके अपना रहे हैं।

आधार नंबर को लेकर यूआईडीएआई की चेतावनी

बैंक की तरफ से जारी की गई चेतावनी भी यह भी बताया गया कि कई बार हैकर्स उपभोक्ता को फोन कर खुद को बैंक का कर्मचारी बताते हैं और फिर उनका भरोसा जीत लेते हैं। इससे उपभोक्ताओं को सच में यक़ीन हो जाता है कि फोन बैंक से ही किया गया है।

इसके बाद हैकर्स उपभोक्ताओं से उनका नाम, पता और मोबाइल नंबर कंफर्म कर लेते हैं। इसके बाद वे उपभोक्ताओं को डेबिट-क्रेडिट कार्ड, मोबाइल बैंकिंग और ऑनलाइन बैंकिंग जैसी सुविधाएं ब्लॉक किए जाने की बात कहकर डराते हैं। जब वे सुनिचित कर लेते है कि उपभोक्ता को उनकी बात का पूरा यक़ीन हो गया है तब वे उन्हें एक ऐप डाउनलोड करने को कहता है। उपभोक्ता को वह यह कहकर ऐप डाउनलोड करवाता है कि इससे सभी समस्या सुलझ जाएगी। यह AnyDesk या फिर ऐसी ही कोई ऐप हो सकती है जो उपभोक्ता के मोबाइल का रिमोट एक्सेस हैकर्स को देती है।

ATM की सुरक्षा को लेकर RBI ने जारी किए निर्देश

जैसे ही उपभोक्ता इस ऐप को इंस्टाल करता है तो उससे परमिशन मांगी जाती है। इसके बाद हैकर्स उपभोक्ताओं से 9 डिजिट का कोड मांगता है जो ऐप के इंस्टाल करने पर उपभोक्ता के मोबाइल पर आता है। बस यह 9 अंकों का कोड ही आपके मोबाइल का रिमोट एक्सेस हैकर्स को दे देता है जिसके बाद आपका खाता खाली होने से कोई नहीं बचा सकता। हालांकि सभी बैंक अपने उपभोक्ताओं से यह आग्रह करते हैं कि अपने खाते से और डेबिट-क्रेडिट कार्ड से जुडी कोई भी जानकारी किसी के साथ भी साझा न करें। साथ ही बैंक यह भी बताते हैं कि कभी भी कोई भी बैंक का कर्मचारी आपको फोन कर जानकारी देने को नहीं कहता। इस बात की जानकारी सभी को होनी जरूरी है।

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.