Wow! GST की दरों में हुई भारी गिरावट, सस्ते हुए सामान

1

जीएसटी काउंसिल आज आम जनता के लिए खुशखबरी लेकर आई है| आज से कई वस्तुओं पर जीएसटी की दरों में बदलाव हुए हैं, जिससे कई लोगों को फायदा मिलेगा| अब सरकार ने टीवी, फ्रिज, वॉशिंग मशीन, स्टोरेज वाटर हीटर्स, हेयर ड्रायर्स, शेवर्स, मिक्सर ग्राइंडर, वैक्यूम क्लीनर पर जीएसटी 28 फीसद से घटाकर 18 फीसद कर दिया है|

दरअसल, केंद्रीय वित्तमंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल की बैठक हुई थी, जिसमें आम आदमी की ज़रूरत की करीब 50 से अधिक सामग्री पर टैक्स की दरों को घटाने का फैसला किया गया था| बैठक में कहा गया था कि 27 जुलाई से ये सभी चीजें सस्ती हो जाएंगी| इस बैठक में सैनेटरी नैपकिन को जीएसटी से बाहर करने का फैसला लिया गया था, जिस पर देशभर की महिलाओं ने खुशी व्यक्त की थी|

आइए जानते हैं किन चीजों के दाम आज से हुए सस्ते

अब इन चीजों पर 28 प्रतिशत की जगह 18 प्रतिशत देना होगा जीएसटी

परफ्यूम्स, लीथियम बैटरी, टेलीविज़न, वैक्यूम क्लीनर, फूड ग्राइंडर, वार्निश, वाटर कूलर, मिल्क कूलर, मिक्सर, स्टोरेज वाटर हीटर, आइस्क्रीम कूलर, टॉयलेट स्प्रे, फ्रिज, वॉशिंग मशीन, हेयर ड्रायर्स|

सैमसंग और गोदरेज अपने प्रोडक्ट्स के दाम में 7.81 फीसद की कटौती करेंगी| पैनासॉनिक भी अपने प्रोडक्ट की कीमत 8 फीसद तक घटाने जा रहा है यानी जीएसटी में कमी के बाद एलजी का 335 लीटर फ्रॉस्ट फ्री रेफ्रिजरेटर 46,490 रुपए में मिल रहा है| अब दाम में 8.5 फीसद की कमी होने के बाद उसकी नई कीमत 42,840 रुपए हो जाएगी| 1000 रुपए के जूते-चप्पल पर भी टैक्स को घटाकर 5 फीसदी कर दिया है|

इन प्रोडक्ट्स पर नहीं लगेगा जीएसटी

मूर्ति-पत्थर, संगमरमर, राखी, लकड़ी की मूर्तियों पर सरकार ने बड़ी राहत दी है| अब इन वस्तुओं को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है|

छोटे कारोबारियों को मिली राहत 

जीएसटी काउंसिल के फैसले में कहा गया है कि  5 करोड़ तक का टर्न ओवर वाले कारोबारियों को मासिक तौर पर जीएसटी जमा करना होगा लेकिन उन्हें तिमाही रिटर्न फाइल नहीं करना पड़ेगा| जल्द ही ट्रांसपोर्टरों के लिए जीएसटीएन से RFID लिंक किया जाएगा। इससे उनकी परेशानियां कम होंगी|

विदेशी सामान होगा महंगा

जीएसटी दर में कटौती से आयातकों के लिये आईजीएसटी दरें भी नीचे आएंगी| इस कारण सरकार इन प्रोडक्ट पर इंपोर्ट ड्यूटी बढ़ा सकती है| इससे विदेशी कंपनियों के प्रोडक्ट महंगे हो सकते हैं|

वित्तमंत्री पीयूष गोयल ने बताया था कि 4 अगस्त को होने वाली अगली बैठक में एमएसएमई सेक्टर को राहत देने पर जीएसटी काउंसिल विचार करेगी| वहीं, रिवर्स चार्ज मेकेनिज्म को भी 4 सितंबर तक के लिए टाल दिया गया है|

इस क्षेत्र में मिली जीएसटी से राहत

मध्यप्रदेश में जीएसटी के बाद भी…

जीएसटी दायरे में नहीं पेट्रोल और डीजल?

Share.