Gas Cylinder Insurance : गैस सिलेंडर लेने पर मुफ्त में हो जाता है लाखों का बीमा

0

आज के दौर में हर किसी घर में रसोई गैस पर ही खाना बनता है। अब वो ज़माना नहीं रहा जिसमें चूल्हे पर खाना बनाया जाता था और उसके धुएं से परेशानी होती थी। हर घर में आज रसोई गैस उपलब्ध है। लेकिन क्या आपको पता है कि जब भी आप रसोई गैस का कनेक्शन लेते हैं तो उसके साथ आपको फ्री में बीमा (Gas Cylinder Insurance) भी मिलता है? यह बीमा इसलिए होता ताकि गैस सिलेंडर से यदि कोई हादसा हो जाए तो तेल मार्केटिंग कम्पनी से आप अपना बीमा क्लेम कर सकें।

आग में खाक हो जाए कार तो इस तरह क्लेम करें इंश्योरेंस

हालांकि इस बात से अधिकतर लोग अनजान रहते हैं। आपको बता दें की जैसे ही आप गैस कनेक्शन लेते हैं तभी से आपका बीमा कवर शुरू हो जाता है। तो चलिए जानते हैं कि किसी भी आपातकालीन स्थिति में आप किस तरह तेल मार्केटिंग कंपनी के पास अपना बीमा क्लेम कर सकते हैं।

सबसे पहले तो आपको बता दें कि तेल कंपनियों की तरफ से आपको 10 करोड़ रुपए तक का कवर मिलता है। अगर गैस सिलेंडर से कोई हादसा हो जाए तो सर्वप्रथम आपको अपनी एलपीजी वितरक कंपनी को इस बात की सूचना देनी होगी। इसके बाद आपकी एलपीजी वितरक कंपनी बीमा कंपनी को इस संबंध में जानकारी देगा और फिर आगे की प्रक्रिया पूरी की जाएगी।

कितने का बीमा ? (Gas Cylinder Insurance)

RBI का बड़ा ऐलान, RTGS और NEFT पर नहीं लगेगा शुल्क

यदि किसी वजह से आपका रसोई गैस फट जाए और उसमें किसी की जान चली जाए तो गैस कंपनी प्रति व्यक्ति 6 लाख रुपए देती है।

यदि कोई व्यक्ति इस तरह के हादसे में घायल हो जाए तो उसे इलाज के लिए कम्पनी की तरफ से 2 लाख रुपए दिए जाते हैं।

अगर गैस सिलेंडर में हुए ब्लास के कारण सम्पत्ति को नुकसान पहुंचे तो इसके लिए भी कंपनी 2 लाख रुपए का भुगतान करती है।

बीमा क्लेम करने का तरीका (Gas Cylinder Insurance Claim Process)

अगर किसी कारणवश रसोई गैस के सिलेंडर में धमाका हो जाए या फिर कोई हादसा हो जाए तो सबसे पहले आपको इसकी FIR दर्ज करवानी होगी। FIR की एक कॉपी आपको अपने गैस डिस्ट्रीब्यूटर को दिनी होगी और उसे घटना के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध करानी होगी। डिस्ट्रीब्यूटर आपके द्वारा दी गई जानकारी और FIR की कॉपी को तेल कंपनी के पास पहुंचाता है। तेल कंपनी के पास जानकारी पहुंचने के बाद कंपनी की तरफ से बीमा कंपनी की एक टीम जांच के लिए आएगी। जांच करने आई बीमा कंपनी की टीम ही क्लेम की राशि निर्धारित करेगी। बीमा कंपनी क्लेम की राशि तेल कंपनी को देगी। तेल कंपनी से यह राशि वितरक के पास जाएगी और फिर वितरक इस राशि को अपने ग्राहक या उसके परिजन को सौंपेगा।

FD से भी कर सकते हैं बेहद तगड़ी कमाई, पढ़ें पूरी खबर

Share.