website counter widget

मोदी सरकार की इस योजना से होगी मोटी कमाई

0

आजकल हर कोई किसी न किसी काम की तलाश में है। और नौकरी के लिए इधर उधर हाथ पैर मार रहा है इस प्रयास में बहुत से लोग असफल रह जाते है जिसके बाद वह धंधा करने की तरफ रुख करते है मगर धन की कमी के कारण वह इसमें भी मजबूर होते है लेकिन अब उनको चिंता करने की जरुरत नहीं है। क्योंकि मोदी सरकार उनके इस प्रयास में सहायता कर रही है। अक्सर लोग किसी न किसी की मदद से धंधा करते है लेकिन अब आप केंद्र सरकार की मदद से जनऔषधि केंद्र (Janaushadhi Kendra) खोल सकते हैं. इस बिजनेस की सबसे बड़ी खासियत है कि मोदी सरकार (Modi Government) इसे खोलने के लिए 2.50 लाख रुपये की मदद भी देती है. फिलहाल देश भर में अब तक 5500 से ज्यादा जनऔषधि केंद्र खुल चुके हैं.

किसानों की आत्महत्या के लिए भाजपा जिम्मेदार!

जानकारी के अनुसार जनऔषधि केंद्र से दवा बेचने वाले को 20 फीसदी मार्जिन के साथ हर महीने की बिक्री पर अलग से 15 फीसदी इंसेंटिव मिलेगा. इंसेंटिव की अधिकतम सीमा 10 हजार रुपये प्रति माह होगी. सरकार की योजना के अनुसार, इंसेंटिव तब तक दिया जाए, जब तक कि 2.50 लाख रुपये पूरे न हो जाएं. जनऔषधि केंद्र खोलने में भी तकरीबन 2.50 लाख रुपये का खर्च आता है. इस तरह यह पूरा खर्च सरकार खुद उठा रही है (Janaushadhi Kendra). सरकार ने जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए 3 तरह की कैटेगरी बनाई है. पहली कैटेगरी के तहत कोई भी व्यक्ति, बेरोजगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर, रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर केंद्र खोल सकता है. दूसरी कैटेगरी के तहत ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट हॉस्पिटल, सोसायटी और सेल्फ हेल्प ग्रुप को जनऔषधि केंद्र खोलने का अवसर मिलेगा. तीसरी कैटेगरी में राज्य सरकारों की ओर से नॉमिनेट की गई एजेंसी होगी. प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए 120 वर्गफुट एरिया में दुकान होनी जरूरी है. केंद्र खोलने वालों को सरकार की ओर से 900 दवाएं उपलब्ध कराई जाएंगी.

महाराष्ट्र में भाजपा के साथ एनसीपी बनाएगी सरकार!

जनऔषधि केंद्र के जरिए महीने में जितनी दवाओं की बिक्री होगी, उसका 20 फीसदी कमिशन के रूप में मिलेगा. इस लिहाज से अगर आपने महीने में 1 लाख रुपये की भी बिक्री की तो आपको उस महीने 20 हजार रुपये की इनकम हो जाएगी। जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए आपके पास रिटेल ड्रग सेल्स का लाइसेंस जन औषधि केंद्र के नाम से होना चाहिए. आवेदन करने के लिए आधार कार्ड एवं पैन कार्ड की जरूरत होगी. वहीं, संस्थान, एनजीओ, हॉस्पिटल, चैरिटेबल संस्था को आवेदन करने के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, पंजीयन प्रमाण पत्र देना होगा. जनऔषधि केंद्र खोलने के लिए आप http://janaushadhi.gov.in पर जाकर फार्म डाउनलोड कर सकते हैं. और आवेदन कर सकते है।

शिवराज सरकार के 500 करोड़ के घोटाले का खुलासा!

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.