2022 तक भारत में 5G, डाटा खर्च भी बढ़ेगा

0

दुनिया में जहां डाटा की महत्ता बढ़ी है, वहीं भारत में भी इंटरनेट यूज़र्स बड़ी तेज़ी से बढ़ रहे हैं| आंकड़ों की माने तो पिछले एक दशक में भारत में इंटरनेट यूज़र्स की संख्या में बदलाव चौंकाने वाले हैं| भारत अभी 4G डाटा का उपयोग कर रहा है, लेकिन 5G डाटा की उम्मीद जल्द से जल्द की जा रही है| अगर सबकुछ ठीक रहा तो 2022 से भारत में 5जी का इस्तेमाल किया जा सकेगा| यह दावा स्वीडन की टेलिकॉम कंपनी एरिक्सन के एक सीनियर अधिकारी ने किया है|

अधिकारी के मुताबिक, साल 2018 सूचना प्रौद्योगिकी के नजरिये से इतिहास में एक महत्वपूर्ण साल के रूप में दर्ज होने जा रहा है| एरिक्सन का अनुमान है कि भारत में 2022 से 5जी का उपयोग शुरू हो जाएगा, लेकिन तब तक भारत में मंथली मोबाइल डेटा ट्रैफिक बढ़कर 5 गुना अधिक हो जाएगा| यह 2017 में 1.9 एक्साबाइट (ईबी) था, जो 2023 तक बढ़कर 10 एक्साबाइट हो जाएगा|

एरिक्सन के स्ट्रैटेजिक मार्केटिंग और बिजनेस नेटवर्क के प्रमुख पैट्रिक केरवाल ने बताया, हमारा मानना है कि 2023 में कुल डेटा ट्रैफिक का 20 फीसदी 5जी होगा| उन्होंने आगे कहा कि यह 20 फीसदी भी वर्तमान के 4जी, 3जी और 2जी तीनों के ट्रैफिक को मिलाकर भी उससे डेढ़ गुना ज्यादा होगा|  उन्होंने कहा, ‘हमारा मानना है कि 5जी का प्रयोग 4जी से अधिक होगा और यूजर्स अधिक डेटा की खपत करेंगे|

Share.