X

आपदा का संकेत देता भीमकुंड

0

1,460 views

आज भी ऐसे कई रहस्य दुनिया में मौजूद हैं, जिनके बारे में वैज्ञानिक भी नहीं जान पाए हैं| इन रहस्यों के बारे में जानकर वैज्ञानिक भी आश्चर्यचकित हो जाते हैं| ऐसे ही रहस्यों से भरा है ‘भीमकुंड’| मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले से 80 किमी दूर बाजना कस्बे के पास घने जंगल में स्थित भीमकुंड एक प्राकृतिक जलस्रोत है| यह कई रहस्यों को अपने भीतर छिपाए है|

इस कुंड का पानी बहुत मीठा और साफ़ है| कई बार यहां वैज्ञानिकों ने शोध किए, लेकिन कोई भी इस बात का पता नहीं लगा पाया कि इस जलकुंड में पानी कहां से आता है| भीमकुंड जहां स्थित है, उसके दूर-दूर तक कोई नदी, तालाब और कोई पानी का स्रोत नहीं है| साथ ही जब सूखा पडता है, तब भी इस जलकुंड में से पानी कम नहीं होता|

कहा जाता है कि अज्ञातवास के समय पांडवों ने अपना बहुत समय इसी क्षेत्र में बिताया था| इसी वन में विचरण के दौरान एक बार जब द्रोपदी को प्यास लगी तो भीम ने बड़े वेग से अपनी गदा का जमीन पर प्रहार किया तो वहां इस पाताली कुंड का निर्माण हो गया, जिसमें अथाह पानी निकला| भीम के प्रहार के कारण बने इस कुंड का नाम भीम के नाम पर भीमकुंड रखा गया|

यह भी कहा जाता है कि यह कुंड आपदाओं का पहले से संकेत दे देता है| जब वर्ष 2004 में सुनामी आई थी, तब इस कुंड में 20 फुट ऊंची लहरें उठी थीं, जिसकी चर्चा पूरी दुनिया में फैली थी| तब इस कुंड की जांच करने डिस्कवरी चैनल की टीम यहां आई थी, लेकिन उन्हें भी इन रहस्यों के बारे में पता नहीं चला|

 

Share.
1