छत्तीसगढ़ : क्या अजीत जोगी लेंगे कांग्रेस का सहारा

2

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव में अपना अलग राजनीतिक दल लेकर उतरे पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी प्रदेश की सियासत को नया रुख दे रहे हैं। अजीत जोगी द्वारा बनाई गई जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ प्रदेश की 90 सीटों पर उतरकर छत्तीसगढ़ के सियासी गणित को बदलने वाली है। जोगी की पार्टी प्रदेश में तीसरा मोर्चा बनकर उभरी है, चुनावी साल में इसका असर साफ़ दिख रहा है।

प्रदेश के मौजूदा सियासी समीकरण देखकर यह कयास लगाए जा रहे थे कि रमन सरकार की सत्ता से छुट्टी करने के लिए शायद जोगी चुनाव के बाद गठबंधन के लिए कांग्रेस का हाथ थाम सकते हैं। गौरतलब है कि जोगी और कांग्रेस का रिश्ता काफी गहरा और लंबा रहा है। प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री के तौर पर अजीत जोगी ने कांग्रेस की ही सरकार बनाई थी। हालांकि उनकी पत्नी रेणु जोगी अब भी कांग्रेस में हैं| यही कारण है कि चर्चा यह भी थी  अजीत जोगी सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का सहयोग कर सकते हैं,  लेकिन अजीत जोगी ने साफ कर दिया है कि उनकी पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी।

तमाम कयासों पर लगाम लगाते हुए जोगी ने यह स्पष्ट किया है कि वे किसी भी स्थिति में कांग्रेस के साथ नहीं जाएंगे। उन्होंने मंगलवार को कहा, “कांग्रेस के साथ चुनाव लड़ने और उन्हें सहयोग देने का कोई सवाल नहीं उठता। इस बारे में पार्टी ने पहले ही फैसला ले लिया है। यदि हम ऐसा कदम उठाते हैं तो इससे क्षेत्रीय पार्टी के सिद्धांत को झटका लगेगा।“

अजीत जोगी के इस बयान से यह तो साफ है कि आगामी चुनाव में जोगी किसी हाल में कांग्रेस से गठबंधन नहीं करेंगे, लेकिन मौजूदा हालात देखकर लगता है कि प्रदेश की राजनीति काफी दिलचस्प होने वाली है।

 जोगी निकलेंगे 45 दिनों की यात्रा पर

रमनसिंह के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे जोगी

Share.