क्यों नहीं हुआ कांग्रेस-सपा का गठबंधन

0

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है, वैसे-वैसे आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला भी तेज़ होता जा रहा है| मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए सपा और कांग्रेस का गठबंधन नहीं हो पाया| अखिलेश यादव ने मंगलवार को घोषणा-पत्र जारी किया| इस दौरान अखिलेश यादव ने खुलासा किया कि क्यों कांग्रेस और सपा का गठबंधन नहीं हो पाया| 

अखिलेश यादव ने मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए सपा का घोषणा-पत्र जारी करने के बाद संवाददाताओं को बताया, “हमने कांग्रेस से कहा था कि मध्यप्रदेश में लड़ाई बड़ी है, बसपा को भी साथ लीजिए, लेकिन कांग्रेस सपा से तो गठबंधन करने को तैयार थी, लेकिन बसपा के साथ वह कोई समझौता नहीं करना चाहती थी इसलिए मध्यप्रदेश में कांग्रेस और सपा का समझौता नहीं हो पाया और गठबंधन नहीं हुआ|”

उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दावा किया कि यदि कांग्रेस का मध्यप्रदेश में सपा, बसपा एवं गोंडवाना गणतंत्र पार्टी (जीजीपी) के साथ गठबंधन होता तो हमें (गठबंधन को) प्रदेश की कुल 230 सीटों में से 200 से ज्यादा सीटें मिलती|

अखिलेश ने आगे कहा, “कांग्रेस ने गठबंधन न करके हमें कांग्रेस की आलोचना करने का अवसर दे दिया है| अब हम उनकी नाकामियां बताएंगे|” मीडिया वार्तालाप  के दौरान अखिलेश से राम मंदिर निर्माण के बारे में भी सवाल पूछा गया| सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि यह मामला वर्तमान में उच्चतम न्यायालय में विचाराधीन है इसलिए मैं इस पर टिप्पणी नहीं करूंगा|

अखिलेश यादव ने कहा, “जब भी हम भाजपा को नोटबंदी, जीएसटी एवं वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा युवाओं के लिए किए गए दो करोड़ रोजगार देने के वादे के बारे में घेरते हैं तो वे जाति, राममंदिर एवं अन्य मुद्दों को उठाकर अपने को बचाने के लिए उनका आश्रय लेने लगते हैं|”

Share.