इस कारण रमनसिंह ने खोई सीएम की कुर्सी…

1

आखिर क्यों खोई रमनसिंह ने सीएम की कुर्सी : छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के परिणाम आ चुके हैं। कांग्रेस ने प्रचंड बहुमत के साथ सत्ता में वापसी की है। प्रदेश में रमनसिंह का काल अब समाप्त हो गया है। 15 वर्ष तक सत्ता में रहे रमनसिंह चौथी बार सरकार बनाने में फेल हो गए। कांग्रेस के लिए 15 वर्षों का वनवास खत्म हो गया।

राज्य में विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 5 रैलियां और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की 22 रैलियां हुईं। इसके बावजूद रमन सरकार को हार का सामना करना पड़ा। कांग्रेस जहां भ्रष्टाचार की बात पकड़े हुए है वहीं रमन सरकार की हार के कई और भी कारण हैं।

– एंटी इनकमबेंसी फैक्टर

रमनसिंह सरकार की हार का बड़ा कारण एंटी इनकमबेंसी फैक्टर रहा। 15 साल सत्ता में रहने के बाद भी प्रदेश में हुए विकास कार्य से जनता असंतुष्ट थी। इस कारण इन विधानसभा चुनावों में एक बड़े प्रतिशत में वोटिंग हुई और कांग्रेस ने एकतरफा जीत दर्ज की।

– पीडीएस घोटाले

छत्तीसगढ़ राज्य वैसे तो प्राकृतिक संपदाओं से भरपूर राज्य है परंतु यहां की जनता ज्यादातर गरीब और आदिवासी है। अनाज वितरण में घोटालों ने भी रमनसिंह सरकार पर से जनता का विश्वास कम किया है। राज्य में लाखों करोड़ों का पीडीएस घोटाला हुआ है।

कार्यकर्ताओं की नाराज़गी

प्रदेश में भाजपा की सरकार पिछले 15 सालों से है, जिसके सीएम रमनसिंह रहे हैं, परंतु इस बार छत्तीसगढ़ चुनाव के लिए टिकट बंटवारे में कार्यकर्ताओं की बात न सुने जाने और उनको महत्व न दिए जाने के कारण राज्य के भाजपा कार्यकर्ताओं में भारी रोष था। कार्यकर्ताओं के यही गुस्सा रमन सरकार की हार का बड़ा कारण रहा है।

जनता की नाराज़गी

प्रदेश में रमन सरकार ने विकास के जितने वादे किए, जनता उनसे संतुष्ट नहीं रही। 15 वर्षों में राज्य का विकास न कर पाने के कारण रमन सरकार को जनता की नाराज़गी झेलनी पड़ी|

जनता के यॉर्कर से बोल्ड हुए रमनसिंह

छत्तीसगढ़ :  अब सीएम रमनसिंह से 25 दिन 25 सवाल पूछेगी कांग्रेस

अश्लील सीडी दिखाना छत्तीसगढ़ की संस्कृति नहीं – सीएम रमनसिंह

Share.