राजस्थान चुनाव में खेल बिगाड़ देगा तीसरा मोर्चा 

0

राजस्थान विधानसभा चुनाव में भाजपा और कांग्रेस की बीच जीतने के लिए जंग तेज़ हो गई हैं। दोनों ही पार्टियों के दावेदारों ने मैदान में उतरकर अपना प्रचार करना भी शुरू दिया है। भाजपा हो या कांग्रेस दोनों ही पार्टी जिताऊ उम्मीदवारों के चयन पर ध्यान दे रही है। ऐसे में पार्टियों पर बागी तेवर का खतरा भी मंडराने लगा है।

राजस्थान में जीत का सपना देख रही कांग्रेस-भाजपा को लग रहा है कि उनका मुकाबला बस एक-दूसरे से हैं, लेकिन तीसरा मोर्चा भी काफी सक्रिय है, जो दोनों ही पार्टियों के जीत के सपने को चकनाचूर कर सकता है। इनमें प्रमुख रूप से तीसरे मोर्चे के गठन में जुटे खिंवसर विधायक हनुमान बेनीवाल। इसके बाद भाजपा से ही अलग हुए दिग्गज नेता घनश्याम तिवाड़ी ने अपनी पार्टी बना ली है। वहीं बसपा और आप भी चुनावी मैदान में जीत का सपना देख रही है।

कांग्रेस-भाजपा के लिए परेशानी इस बात है कि एक विधानसभा सीट पर 5 से 7 उम्मीदवार चुनावी ताल ठोक रहे हैं। ऐसे में टिकट न मिलने पर उम्मीदवारों के बागी रूप सामने आ सकते हैं, जो पार्टियों के लिए खतरा हैं। दावेदारों की हालत देख पार्टी के शीर्ष नेता काफी चिंतित हैं। भाजपा के प्रदेश प्रभारी अविनाश राय खन्ना ने तो साफ कह दिया कि, भाजपा के दरवाजे खुले हैं, बस जिताऊ प्रत्याशी होना चाहिए।

आगामी राजस्थान चुनाव में यह तो तय है कि जिन उम्मीदवार को टिकट नहीं मिलेगा, उनके लिए दूसरे दलों के दरवाजे खुल रहेंगे। अब देखना होगा कि चुनाव के वक्त कितने बागी नेताओं के चेहरे सामने आते हैं।

कांग्रेस का भाग्य बदलेगी ‘प्रियदर्शिनी कांग्रेस’

वसुंधराराजे ने गौरव यात्रा की स्थगित

गौरव यात्रा पर सरकार का हाईकोर्ट में जवाब पेश

Share.