इनकी जोड़ी लगाएगी भाजपा को पार

0

प्रदेश के मुख्यमंत्री पद पर रह चुकीं और वर्तमान केंद्रीय मंत्री उमा भारती से भाजपा का कम होता प्रेम उन्हें कहीं न कहीं चिंतित जरूर करता है| कई मोर्चों पर वे अपने को दरकिनार किए जाने का दर्द भी बयां कर चुकी हैं, लेकिन बावजूद इसके उमा अब एक बार फिर शिव की ओर अपना रुख कर रही हैं| एक समय शिवराजसिंह चौहान की धुर विरोधी रहीं उमा भारती अब खुद को बचाने के लिए शिवराज से नजदीकियां बढ़ाने की कवायद कर रही हैं| इसका फायदा काफी हद तक दोनों नेताओं को मिलेगा|

उमा भारती के बड़े भाई और भाजपा विधायक स्वामीप्रसाद लोधी के निधन पर टीकमगढ़ में जो श्रद्धांजलि सभा हुई, उसमें भी ये राजनीतिक समीकरण देखे गए| इस मौके पर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान और भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेशसिंह सहित कई विधायक और बड़े नेता पहुंचे थे| इस मौके पर उमा भारती ने कहा कि उनके भाई उनसे अब आत्मीय और भौतिक रूप से अलग हो गए हैं, ऐसे में उन्हें एक भाई की जरूरत है| अब ऐसा कौन है, जो उन्हें भाई का प्रेम देगा?

उमा ने कहा कि मुझे बड़े भाई शिवराजसिंह का संरक्षण चाहिए| प्रदेश के मुखिया शिवराजसिंह मेरी रक्षा करें| वे जो भी आदेश देंगे, मैं उसका पालन करूंगी|

इसके बाद शिवराजसिंह चौहान ने भावुक होते हुए उन्हें दिलासा दिया कि एक भाई के रहते उनकी बहन को कोई परेशानी नहीं होगी| दोनों ही नेताओं के इन बयानों ने राजनीति में नए समीकरण पैदा कर दिए हैं| अनुमान है कि आगामी चुनाव में भी दोनों की जोड़ी जीत के लिए साथ आएगी|

उमा भारती का बुंदेलखंड क्षेत्र में काफी प्रभाव है और ऐसे में शिवराजसिंह चौहान को इस गढ़ में उमा भारती जीत दिला सकती हैं| इस चुनाव में बड़ी भूमिका निभाकर उमा अपना कद भी बढ़ा सकती हैं| देखना होगा कि विधानसभा चुनाव 2018 उमा-शिव की इस जोड़ी का कितना प्रभाव नज़र आता है|

-राहुल कुमार तिवारी

 

Share.