दिग्विजय के तमराज पर तंज किया तो…

0

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान इन दिनों जन आशीर्वाद यात्रा के माध्यम से प्रदेश की जनता को साधने की कोशिश कर रहे हैं। मुख्यमंत्री इस दौरान कांग्रेस पर जमकर निशाना साधते नज़र आ रहे हैं, लेकिन उनकी सभा में कुछ ऐसा हुआ, जिससे उनके ही राज की असलियत सामने आ गई।

दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की उचेहरा की सभा में ऐसा वाकया हुआ कि वे खुद पसोपेश में पड़ गए। सभा में नज़ारा उस वक़्त देखने लायक था, जब मुख्यमंत्री कांग्रेस सरकार के दौरान होने वाले बिजली संकट को याद करते हुए उनकी खिल्ली उड़ा रहे थे कि उनके सभास्थल की ही बत्ती गुल हो गई। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह दिग्विजयसिंह को घेरते-घेरते खुद ही घिर गए।

उचेहरा में शिवराज अपनी जनआशीर्वाद यात्रा लेकर पहुंचे थे। वे यहां सभा को संबोधित कर रहे थे। सभा में अच्छी-ख़ासी भीड़ थी।  शिवराजसिंह प्रदेश की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कार्यकाल को याद कर रहे थे। वे खिल्ली उड़ा रहे थे कि कांग्रेस सरकार के दौरान लोग बिजली-पानी और सड़क के लिए परेशान रहे। उन्होंने जैसे ही बिजली की किल्लत और अघोषित कटौती के बारे में बोलना शुरू किया कि अचानक सभास्थल की बिजली गुल हो गई और मुख्यमंत्री का दांव उल्टा पड़ गया। दिग्गी सरकार की हंसी उड़ाते-उड़ाते खुद की सभा में अंधेरा छा गया।  यह नज़ारा देखकर सभा में उपस्थित लोग भी हंस पड़े।

मुख्यमंत्री पसोपेश में पड़ गए। उन्होंने लोगों से मोबाइल फोन का टॉर्च जलाने के लिए कहा। सबने अपने-अपने फोन का टॉर्च जलाया, तब जाकर मुख्यमंत्री ने अपनी बात आगे बढ़ाई। मुख्यमंत्री ने मोबाइल फोन का टॉर्च जलाकर अपना भाषण पूरा किया। हालांकि मुख्यमंत्री ने सभा की बत्ती गुल होने को भी कांग्रेसियों की साज़िश बताया। सतना ज़िले में दो दिवसीय जनआशीर्वाद यात्रा की यह समापन सभा थी। इस सभा में बिजली के नाम पर जनता का खूब मनोरंजन हुआ।

Share.