पूर्व भाजपा सांसद पर केस दर्ज

0

पूर्व सांसद रामलखनसिंह पर ईओडब्ल्यू ने 18 साल पुराने एक कम्प्यूटर घोटाले के मामले में धोखाधड़ी का केस दर्ज किया है। पूर्व सांसद और तत्कालीन कलेक्टर मुक्तेश वार्ष्णेय सहित चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। यह जानकारी भिंड से भाजपा विधायक नरेंद्रसिंह कुशवाहा ने मीडिया को दी।

115 कम्प्यूटर के लिए 1 करोड़ 7 लाख 92 हजार

विधायक नरेंद्रसिंह ने बताया कि पूर्व सांसद के कार्यकाल में वर्ष 1998-2000 के बीच सांसद निधि से 23 स्कूलों के लिए 115 कम्प्यूटर खरीदे गए थे। उस समय 10 हजार रुपए के कम्प्यूटर को एक लाख रुपए का बताकर एक करोड़ सात लाख 92 हजार रुपए का घोटाला किया गया था। स्कूलों में कोई कम्प्यूटर नहीं लगाए गए। मामले की जांच में सामने आया कि जिन कंपनियों से कम्प्यूटर खरीदना बताया गया था, वे दोनों कंपनियां फर्जी थीं।

2006 में उठा था मामला

बता दें कि इस घोटाले को लेकर सबसे पहले मामला उठाया था एडवोकेट अशोक भदौरिया ने। उन्होंने 2006 में हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। कोर्ट के आदेश पर ग्वालियर कमिश्नर कोमलसिंह ने जांच की थी। जांच में कोर्ट ने पूर्व सांसद रामलखन सिंह और तत्कालीन कलेक्टर मुक्तेश वार्ष्णेय को दोषी माना था।

झूठा आरोप

आरोप के बाद पूर्व सांसद रामलखन सिंह के बेटे संजीवसिंह कुशवाहा ने कहा कि विधायक नरेंद्रसिंह कुशवाहा झूठा आरोप लगा रहे हैं। सरकार मामला दर्ज करवाकर दबाव बना रही है, लेकिन वे डरने वाले नहीं है और आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा को टक्कर देने के लिए चुनावी मैदान में उतरेंगे। बता दें कि पूर्व सांसद रामलखनसिंह 2013 में भाजपा छोड़ बसपा में शामिल हो गए थे।

Share.