अभी से सिर चढ़ा जीत का घमंड

1

जीत का घमंड : 5 राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में आखिर इस बार कांग्रेस की सत्ता में वापसी हो गई और वापसी हुई भी तो शानदार जीत के साथ। इतनी बड़ी जीत की कल्पना तो शायद न राहुल गांधी ने की होगी और न ही सोनिया गांधी ने। वहीं कई प्रत्याशियों को जब जीत हासिल हुई तो वे इतने खुश हुए कि अपनी जुबान पर काबू नहीं रख सके। ऐसा ही एक मामला राजस्थान के चित्तौड़गढ़ से सामने आया है, जहां जीत की ख़ुशी में कांग्रेस प्रत्याशी की जुबान बेकाबू हो गई।

यह मामला है चित्तौड़गढ़ जिले की बेगूं विधानसभा सीट का। बेगूं सीट से जीत का परचम लहराने वाले कांग्रेस प्रत्याशी राजेंद्रसिंह विधूड़ी की जुबान काबू में नहीं रही। उनकी बातों से ऐसा लग रहा है कि उन्हें सिर्फ उन्हीं लोगों से मतलब है, जिन्होंने उन्हें वोट दिया है। विधूड़ी की सांसें मतगणना के दौरान अटक गई थीं और उनका जीतना मुश्किल लग रहा था। आखिरी के 4 राउंड में पूरी बाजी पलट गई और विधूड़ी ने जीत के झंडे गाड़ दिए। विधूड़ी ने अपने प्रतिद्वंद्वी और पूर्व विधायक सुरेश धाकड़ को 1661 मतों से मात दे दी। इसके पहले विधूड़ी से क्षेत्र के कुछ लोग अच्छे खासे नाराज़ थे और उन्हें चुनाव न लड़ने की हिदायत भी दी गई थी।

इन सबके बावजूद जब विधूड़ी को जीत हासिल हुई तो वे अपनी जीत की  ख़ुशी में फूले नहीं समा रहे। ऐसे में जब उनसे प्रतिक्रिया ली गई तो उनकी ख़ुशी का पैमाना आखिर छलक ही पड़ा और उन्होंने कहा कि “जहां से जीते हैं, वहां विकास करेंगे। जहां से हारे हैं, वहां विकास नहीं करेंगे, छोड़ देंगे। अगले पांच साल लड़ना नहीं है।“ आगे उन्होंने कहा कि “जिन कार्यकर्ताओं ने चुनाव लड़ने में मेरी मदद की, मैं उनका काम करूंगा, उनकी मदद करूंगा। जिन्होंने मदद नहीं कि मैं भी उन्हें नज़रअंदाज करूंगा।“

मप्र की 230 सीटों के नतीजे यहां देखिए

पत्तों की तरह बिखरी वसुंधरा कैबिनेट…

जीत के बाद कुर्सी के लिए लड़ाई

Share.